कोरोना से निपटने के लिए नोडल अधिकारी नामित

गौरव सिंघल, सहारनपुर। राज्य मुख्यालय उत्तर प्रदेश के निर्देशानुसार एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 संजीव मांगलिक के निर्देशन में 20 अगस्त 2022 एवं 21 अगस्त 2022 को कोरोना संक्रमण के बढते मामलों से निपटने और संक्रमित को बेहतर इलाज मुहैया कराने के लिये एक बार फिर सरकारी अस्पतालों में फुल रिहर्सल की जा रही है। रिहर्सल कराये जाने हेतु जनपद में नोडल अधिकारी नामित किये गये है। 

रिहर्सल में संबंधित अस्पतालों में उपकरण संसाधन आदि की व्यवस्था को परखा गया। ज्वाइंट डायरेक्टर नोडल अधिकारी, डा0 मुनेश कुमार चावला, जिला मलेरिया अधिकारी शिवांका गौड एवं प्रभारी चिकित्सा अधिकारी नागल डा0 नितिन के द्वारा आरबीएसके कार्यक्रम के अन्तर्गत की जा रही कार्यवाही का निरीक्षण किया गया। आरबीएसके स्वास्थ्य टीम द्वारा विगत माह 4179 बच्चों का स्वास्थ्य परिक्षण किया गया जिनमें से 15 बच्चों को ईलाज हेतु जिला चिकित्सालय रेफर किये गये तथा आरबीएसके टीम द्वारा रोस्टर बनाकर स्कूलों में बच्चों का स्वास्थ्य परिक्षण किया जा रहा है। 

ब्लॉक नागल के अन्तर्गत ग्राम खजूरवाला में वीएचएसएनडी के अन्तर्गत किये जा रहे कार्यो का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान आशा, आगंनवाडी, बीएचएचडब्लू एवं एएनएम उपस्थित थी। सभी से वेक्सीनेशन एवं संचारी रोग के बारे में जानकारी ली गयी। नागल पीएचसी का भी निरीक्षण किया गया तथा एएनएम ट्रैनिंग सेन्टर का निरीक्षण भी किया गया तथा दो प्राईवेट अस्पताल में आग बुझाने के संसाधन देखे गये। 
क्या करें-भीड़ से बचे, कम से कम लोगों से हाथ मिलाये व बार-बार हाथ धोने की आदत डालें, बीमारी के लक्षण जैसे बुखार, सर्दी जुकाम, खांसी, खराश, बदन दर्द, आदि लक्षण दिखायी देने पर तुरन्त सरकारी अस्पताल में सम्पर्क करें। एक-दूसरे के मुंह की तरफ छींकने, खांसने से बचे, नाक मुंह पर कपडा/टीशू पेपर रखकर छींकने एवं खांसने की आदत डालें, कपडे को डिटरजेंट से धोयें, एवं धूप में सुखाये दूसरे कपडों से अलग रखें, फ्लू होने की स्थिति में घर पर आराम करें तथा वार्तालाप के समय एक हाथ या उससे अधिक दूरी बनाये रखे, ताकि थूक आदि के कण एक व्यक्ति से दूरसे व्यक्ति में ना पहुचें एवं चिकित्सक से सम्पर्क करें।
क्या न करे-जहां तक सम्भव हो भीड़ भाड़ वाले स्थानों जैसे मॉल्स, सिनेमा घर, पार्क, रेलवे स्टेशन, मेले, पार्टी, होटल, आदि में न जाये। अनावश्यक यात्रा न करें। किसी पाॅजिटिव रोगी के सम्पर्क में आने से बचें। किसी भी व्यक्ति जिसे जुकाम, खांसी, बुखार हो बिना मास्क या रूमाल के उसके करीब न जायें।