विश्वकर्मा दिवस पर टूलकिट एंव प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ऋण वितरण समारोह आयोजित
शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। विश्वकर्मा दिवस के अवसर पर विश्वकर्मा श्रम सम्मान प्रशिक्षण टूल किट एवं प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत विश्वकर्मा श्रम सम्मान के लाभार्थियों के ऋण वितरण एवं प्रमाण पत्र वितरण समारोह का आयोजन जिला पंचायत सभागार क्लेक्ट्रेट में किया गया। विश्वकर्मा दिवस समारोह का सजीव प्रसारण मुख्यमंत्री के द्वारा लोक भवन लखनऊ में भगवान विश्वकर्मा के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित किया गया । शासन के निर्देशानुसार जनपद में आयोजित समारोह के अन्तर्गत मुख्य अतिथि कौशल  विकास एवं व्यवसायिक शिक्षा विभाग के स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लाभार्थियों को सम्बोधित करतें हुए कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना परम्परागत दर्जी, बढ़ई, टोकरी बुनकर, सुनार, लुहार, कुम्हार, हलवाई, मोची  करीगरों के आजीवीका के साधनों का सुदृढ़ीकरण करते हुए उनके जीवन स्तर को उन्नत बना रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार हुनर से रोजगार के अवसर पैदा कर रही है।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के 50 लाभार्थियों को टूल किट तथा मुद्रा योजना के 07 लाभार्थियों को ऋण स्वीकृति पत्र के साथ प्रमाण पत्र भी वितरण किया। समारोह में विधायक उमेश मलिक ने कहा कि कारीगरों को टूलकिट मिलने पर उनके चेहरे के साथ-2 परिवार के चेहरे पर भी खुशियां आती हैं, क्योकि संसाधन से परिवार की आर्थिक समृद्धि बढती है। विधायक विक्रम सैनी ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा के इस दिवस पर यह आयोजन  उन हुनरमन्द लोगों का सम्मान है, जो रात-दिन मेहनत कर के परम्परागत कला को बचाए हुए है। उन्होंने कहा कि इस तरह की योजना का लाभ जनहित के लिए बहुत उपयोगी है।
विश्वकर्मा दिवस के अवसर पर समारोह की अध्यक्षता जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह ने की। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित सिंह के मार्गदर्शन में आयोजन को सफल बनाया गया। अतिथियों का स्वागत एवं कार्यक्रम का संचालन सहायक आयुक्त उद्योग डा0 बनवारी लाल ने किया। कार्यक्रम में जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केन्द्र के आषीश कुमार, नवीन चन्द्र पाल, राजकुमार, ब्रजभूषण एवं विजय कुमार आदि का सहयोग सराहनीय रहा। इस अवसर पर लाभार्थियों के साथ जनप्रतिनिधि व उच्चाधिकारी भी उपस्थित रहे।