चाइल्ड लेबर फ्री विलेज बनाने के लिए बच्चों ने नवर्निवाचित ग्राम प्रधान से की माँग
जौनपुर। आज विश्व बाल श्रम विरोध दिवस 12 जून की पूर्व संध्या बाल पंचायत(बच्चो के हित में बच्चो द्वारा बनाया गया समूह) के द्वारा भदोही जिले के 30 से अधिक गॉवों के 1000 बच्चों ने अपना पाँच सुत्रीय माँग पत्र तैयार कर अपने ग्राम प्रधान को चाइल्ड लेवर फ्री विलेज बनाने के लिए हस्ताक्षर युक्त मॉग पत्र दिया गया। बच्चो ने बताया कि पूरी दुनिया में 12 जून को विश्व बाल श्रम विरोध दिवस मनाया जा रहा है। अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ने इस वर्ष का थीम- ‘‘बाल श्रम का खात्मा 2021’’ रखा है।  हम सभी लोग मिलकर अपने गॉव से बाल मजदूरी को खत्म करने के लिए प्रयास करे।  हम बच्चों की मॉंग है कि- इस वर्ष जब ग्राम पंचायत विकास योजना बनायी जाये उसमें बच्चो के सुरक्षा के लिये योजना बनायी जाये और ग्राम पंचायत वार्षिक बजट में गाँव में बाल श्रम को रोकने के लिये बजट बनाया जाये। गाँव में प्रत्येक बच्चे विद्यालय से जुडे रहे और जो बच्चे विद्यालय नही जा रहे उनके विद्यालय न जाने के कारण के लिये सर्वेक्षण कराया जाये और उनको विद्यालय से जोड़ा जाये। गाँव में जो भी बाहरी व्यक्ति आये और जाये उस व्यक्ति के बारें में आपको जानकारी हो और आपके पास एक रजिस्टर हो ताकी जो बाहर जाये उसके बारे में आपके पास लिखित जानकारी लिया जाये।  मुशहर समुदाय में योजनाओं को प्राथमिकता से लागू कराया जाये । गाँव में प्रत्येक व्यक्ति को स्वास्थ्य सेवा के लिये आयुष्मान लाभ दिलाया जाये। गाँव में प्रत्येक इच्छुक व्यक्ति को मनरेगा के प्रावधान के अनुसार 100 दिन का रोजगार अवश्य मिले रोजगार न मिलने पर उन्हें बेरोजगारी भत्ता अवश्य दिया जाये।  इस अवसर पर बाल पंचायत समुह के संयोजक मनीष ने कहा कि बच्चों के अधिकार एवं संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार संन्धि पर हमारे देश ने हस्ताक्षर किया है। इस सन्धि को लागू हुए 32 वर्ष बीत गये। लेकिन आज भी हमारे देश और गॉवों में बच्चों को सुरक्षा और अधिकार प्राप्त नही हो पा रहे। बच्चे आज भी बाल मजदूरी के करने के लिए विवश हो रहे है या उनसे जबजस्ती बाल मजदूरी करायी जा रही है। आज भी कुछ समुदाय के बच्चे शिक्षा से वंचित है जिनको शिक्षा नही मिल पा रही है। इस अवसर पर मनीष,खुशी,अनिता,मानसी,लुत्तर,चौथी अनेक बच्चों ने सक्रिय भूमिका निभाई।