...तो प्रदेश में बंद हो जायेंगी शराब की दुकाने, शराब कारोबारियों ने खोला मांगों का पिटारा


शि.वा.ब्यूरो, मेरठ। प्रदेश भर में अंग्रेजी शराब की दुकाने सोमवार से अनिश्चितकाल के लिए बंद हो जाएगी। ठेकेदारों ने शनिवार को आबकारी अधिकारियों से वार्ता के बाद बंदी वापिस लेने से इनकार कर दिया। प्रदेशभर की दुकानों में बंदी की सूचना के पोस्टर लगा दिए गए हैं। ठेकेदारों कहना है कि लॉकडाउन के चलते शराब कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। ऐसे में पिछले साल से करीब 40 प्रतिशत ज्यादा कोटा बेचने की बाध्यता ठेकेदार पूरी नहीं कर सकते।
शराब कारोबारी रामकुमार जायसवाल ने बताया की संयुक्त आयुक्त से वार्ता में शनिवार को कोई हल नहीं निकला है। ऐसे में अब बंदी की के सिवा कोई विकल्प नहीं। उन्होंने बताया कि पिछले साल जो कोटा मुश्किल से बिका है। इस बार सरकार ने उसको 40 प्रतिशत बढ़ा दिया है। लॉक डाउन और दुकान बंदी के चलते पहले ही भारी नुकसान हो गया है।
उन्होंने सरकार से कोविड टैक्स हटाने, मार्च या उस से पहले का जो स्टॉक ना उठा हो उसका रिफंड दिलाने, नवीनीकरण दुकानों में अवशेष स्टॉक अधिभार का रिफंड देने, शराब और बियर पर लाभ 25 प्रतिशत करने व लॉकडाउन में नवीनीकरण फीस और लाइसेंस फीस माफ करने सहित शराब कारोबारियों पर दर्ज मुकदमे वापिस लेने की मांग की है।