जिस रोज तुम
प्रीति शर्मा "असीम", शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।
जिस रोज तुम गए थे मुझे छोड़ कर।
दो शब्द भी हिस्से न आयें मेरे।
कुछ तो कहा होता.........
कुछ बोल कर।।

जिस रोज तुम गए थे मुझे छोड़ कर।।
इंतजार को छोड़ा था मैंने जिस मोड़ पर।
दिल को तोड़ा था तूने दिल से जोड़ कर।
मैं फरियादें कहा करता रब से कुछ बोल कर।
जिस रोज तुम गए थे मुझे छोड़ कर।।

ना जाते हुए देखा नज़र भर कर।
मैं देखता ही रहा खामोशी से उस मोड़ तक।
आज सोचता हूँ....
क्यों रोका नहीं उसे अपनी कसम बोल कर।
जब कि वो चला गया 
मेरी जिंदगी से बिना कुछ बोल कर।।
नालागढ़, हिमाचल प्रदेश
Comments
Popular posts
कावड़ मार्ग के चौड़ीकरण के लिए लोक निर्माण मंत्री कुंवर बृजेश सिंह को ज्ञापन सौंपा
Image
पूर्व विधायक संगीत सोम ने पूर्व सांसद डाॅ. संजीव बालियान पर लगाये गम्भीर आरोप, पार्टी नेतृत्व से की जांच की मांग
Image
संगीत सोम बनाम संजीव बालियान की तनातनी में नया मोड़, संजीव-संगीत युद्ध में संजीव बालियान का नया सेनापति बना संजीव खरदू
Image
पत्रकार वार्ता में डाॅ.संजीव बालियान ने ली हार की जिम्मेदारी, नवनिर्वाचित सांसद को नकारात्मकता छोड़, सकारात्मक राजनीति करने की दी सलाह
Image
भाजपा करेगी यूपी में हारी हुई सीटो पर समीक्षा, पार्टी नेतृत्व ने संगीत सोम व डाॅ.संजीव बालियान को मीडिया में बयानबाजी से बचने की दी नसीहत
Image