श्रीराम कॉलेज के ललित कला विभाग में एक दिवसीय सेमिनार आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर श्रीराम कॉलेज के ललित कला विभाग में विद्यार्थियों के नवीनतम ज्ञान से अवगत कराने और वर्तमान परिदृश्य के अनुरूप उनका ज्ञानवर्धन कराने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष समय-समय पर सेमिनार का आयोजन होता रहा है। इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए ललित कला विभाग में एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन महाविद्यालय के परिसर में किया गया, जिसमें ललित कला के विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया, जिसका विषय ‘शोध प्रणाली‘ रहा। विभाग में विद्यार्थियों को शोध प्रणाली से सम्बंधित विभिन्न प्रकार से विस्तृत जानकारी दी गई। सेमिनार के मुख्य अतिथि महाविद्यालय के चैयरमेन डॉ0 एससी कुलश्रेष्ठ  मुख्य वक्ता गवर्नमेंट पीजी कॉलेज देवबन्द प्रवक्ता डॉ0 मौ0 आरिफ रहे।

डॉ0 मौ0 आरिफ ने शोध प्रणाली की विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए कहा कि यह उद्देश्य पूर्ण बौद्धिक प्रक्रिया है, जिसके द्वारा किसी सैद्धान्तिक अथवा व्यवहारिक समस्या का समाधान किया जाता है तथा इन समस्याओं के समाधान हेतु विशिष्ट उपकरणों तथा प्रक्रियाओं का प्रयोग किया जाता है। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में आंकड़ों से जानकारी एकत्रित की जाती है, जो प्राथमिक अथवा माध्यमिक स्रोतों से एकत्र किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि शोध के लिए अंग्रेजी में रिसर्च शब्द का प्रयोग किया जाता है, रिसर्च मूल रूप से लेटिन के रि अर्थात् दोबारा और सर्च अर्थात खोजने से बना है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक पद्धति द्वारा ज्ञान प्राप्त करने का निरन्तर प्रयास ही शोध है। 
डॉ0 आरिफ ने शोध की आवश्यकता, शोध या अनुसंधान का उद्देश्य, शोध को प्रेरित करने वाले प्रमुख तत्व, शोध का महत्व, शोध के प्रकार, शोध डिजाइन, शोध डिजाइन के प्रकार, विषयों का चयन जैसे बिंदुओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने ललित कला में बीएफए और एमएफए को सर्वोत्तम बताया। उन्होंने कहा कि इन पाठ्यक्रमों को पूर्ण करने के उपरान्त नौकरी के अवसर प्राप्त करने में 100 प्रतिशत सफलता निश्चित है। उन्होंने विद्यार्थियों के विभिन्न प्रश्नों के उत्तर देते हुए सेमिनार का समापन किया।
ललित कला विभाग के निदेशक डॉ0 मनोज धीमान ने विद्यार्थियों का मनोबल बढ़ाया और डॉ0 मौ0 आरिफ को श्रीराम कॉलेज का प्रतीक चिन्ह भेंट कर आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वे भविष्य में भी श्रीराम कॉलेजके विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करते रहें। सेमिनार में ललित कला विभाग के निदेशक डॉ0 मनोज धीमान, विभागाध्यक्ष मीनाक्षी काकरान, प्रवक्ता रजनी कान्त, बिन्नू पुंडीर, अनु, रीना त्यागी, मयंक सैनी, अजीत कुमार एवं शर्मिष्ठा का विशेष योगदान रहा।
Comments
Popular posts
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय धरेच में आयोजित दश दिवसीय संस्कृत संभाषण शिविर सम्पन्न
Image
एडीएम वित्त ने मारा छापा, तहसील के क्वार्टर में सरकारी कामकाज करते पकड़ दो बाहरी व्यक्ति
Image
लेखपालों के पास कुछ प्राइवेट हेल्परों को कार्य करते हुए रंगे हाथ पकड़ा
Image
जिलाधिकारी मनीष बंसल ने किया कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण
Image
राजस्व परिषद के अध्यक्ष डॉ0 रजनीश दुबे ने किया कलैक्ट्रेट के विभिन्न पटलों, कंट्रोल रूम का निरीक्षण, राजस्व कार्यों की समीक्षा बैठक भी की, बन्दोबस्त अधिकारी चकबन्दी के पेशकार को निलम्बित करने के निर्देश
Image