भ्रष्टाचार की रोकथाम हेतु भ्रष्टाचार निवारण संबंधी मण्डल स्तरीय कार्यशाला आयोजित

गौरव सिंघल, सहारनपुर। मण्डलायुक्त लोकेश एम0 के निर्देशों के अनुपालन में अपर आयुक्त प्रशासन देवेन्द्र प्रताप की अध्यक्षता में सर्किट हाउस सभागार में  मण्डल एवं जिला स्तर पर भ्रष्टाचार की रोकथाम हेतु भ्रष्टाचार निवारण संबंधी कार्यशाला आयोजित की गयी। शासन के उच्च निर्देशों के क्रम जीरो टोलरेन्स नीति के सफल क्रियान्वयन के लिए प्रत्येक विभाग को नोडल अधिकारी नियुक्त करने के निर्देश दिये गये। 

कार्यशाला में अपर आयुक्त प्रशासन देवेन्द्र प्रताप ने बताया कि शासन द्वारा जीरो टॉलरेंस नीति के क्रम में अभी तक यूपी में 10 मंडलों में ही भ्रष्टाचार निवारण संगठन की इकाई बनी हुई थी। शेष 8 मंडलों में भी अब भ्रष्टाचार निवारण संगठन की इकाई बनाई गई है, जिस के क्रम में सहारनपुर में भी मंडल इकाई बनाई गई है। अभी हाल ही में शासन ने सभी इकाइयों को थाना घोषित कर दिया है। इसी क्रम में पिछले दिनों शासन ने भ्रष्टाचार निवारण संगठन उत्तर प्रदेश की सहारनपुर मंडल की शाखा का गठन कर दिया। 
उन्होंने बताया कि मण्डल सहारनपुर के प्रत्येक जनपद में पारदर्शिता लाने के लिए भ्रष्टाचार निवारण हेतु कार्यवाही की जा रही है। इसके तहत सहारनपुर मण्डल में शामली और मुजफ्फरनगर जनपद के भ्रष्टाचार संबंधी मामलों को देखा जायेगा। उक्त के संबंध में थाना बनाने संबंधी प्रस्ताव शासन को भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि भ्रष्टाचार के प्रति शासन की मंशा से अवगत कराने के लिए बैठक का आयोजन किया गया था। 
बैठक में शासन की मंशा एवं संगठन की संपूर्ण जानकारी तथा अधिकारियों द्वारा आपसी समन्वय कर भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिये गये। बैठक में सिटी मजिस्ट्रेट अनिरूद्ध प्रताप सिंह, उप आबकारी आयुक्त एसके राय, एसई पीडब्ल्यूडी सीपी सिंह, एडी बेसिक योगराज सिंह सहित संबंधित विभागों के मण्डल एवं जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।