रूद्र महायज्ञ का भव्य आयोजन 22 जनवरी से 01 फरवरी तक

मदन सिंघल, शिलचर। नगर में रूद्र महायज्ञ की तैयारियां जोरों पर हैं। इस सम्बन्ध में आयोजित एक प्रेसवार्ता में जानकारी देते हुए आयोजकों ने बताया कि रूद्र महायज्ञ के लिए उत्तर प्रदेश से टृक से रामलीला मंचन का सामान लाया जा रहा है। प्रेसवार्ता में बताया गया कि अंतर्राष्ट्रीय रामलीला कमेटी के बीस कलाकार महायज्ञ के विद्वान शास्त्री पंडित फौजदार शास्त्री के साथ इक्कीस विद्वान पंडितों का दल 11 दिन मुख्य यजमान एवं सभी विशेष यजमानों को यज्ञ करवायेंगे।

संस्था के महासचिव दिलीप कुमार ने महायज्ञ की रूप रेखा का विस्तृत ब्यौरा देते हुए बताया कि साठ लाख वाले बजट के रूद्र महायज्ञ में सभी उपसमितियां बनाकर अलग अलग दायित्व दिया गया है। उन्होंने बताया कि 2500 स्कवायर फीट में रामलीला एवं शिव पुराण कथा का प्रवचन स्थल हवन कुंड सहित सभी मंडप तैयार किए गए हैं। इस क्षेत्र के चार गाँव रोजाना सभी भक्तों के लिए महाप्रसाद बनाने एवं खिलाने का जिम्मा लिया है। कमलेश सिंह ने कहा कि दो साल के कोविद संक्रमण काल आने से जनधन की काफी हानि हुई थी, सारा विश्व संकट मे आ गया था। उन्होंने कहा कि चीन में तांडव के बाद अब भारत में भी अप्रैल माह से तीसरी लहर आने की आशंका है, जिसके चलते जनता में उत्साह एवं आध्यात्मिक ज्ञान के लिए इतना बड़ा आयोजन किया जा रहा है।

संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष डाॅ. रंजन सिंह ने कहा कि वर्तमान पीढ़ी को धर्म एवं आध्यात्म से साक्षात्कार कराने के लिए ऐसे आयोजन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि मैदान को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है। रविवार को पांच नदियों के जल से बरमबाबा मंदिर से गाजे-बाजे के साथ 1100 महिलाओं द्वारा कलश यात्रा निकाली जाएगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में बड़े आयोजन से जनता काफी उत्साहित है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा ट्रेफिक पीने का पानी चिकित्सा एवं अन्य सभी व्यवस्था की गई है।