स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक ने किया उच्च तकनीक की दो मशीनों का उद्घाटन

गौरव सिंघल, सहारनपुर। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने आज यहां के राजकीय मेडिकल कालेज में उच्च तकनीक की दो नई मशीनों ब्रेन, इओक्ड रिस्पांस आडियोमिट्री मशीन और कार्बन डाइआक्साइड (सीओ-2) लेजर मशीन का उद्घाटन किया। प्रदेश के उप मुख्यमंत्री जिनके पास स्वास्थ्य विभाग भी है। मंगलवार को सहारनपुर के पिलखनी स्थित राजकीय मेडिकल कालेज पहुंचे और करीब एक घंटा वहां पर रूके। उन्होंने इन दोनों मशीनों का उद्घाटन करने के बाद करीब एक घंटा कालेज के चिकित्सकों और स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। 

उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने मेडिकल कालेज के प्राचार्य और जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी डा. संजीव मांगलिक को निर्देश दिए कि स्वास्थ्य विभाग में रिक्त नियुक्तियों को और उच्च तकनीक वाली मशीनों के संचालन के लिए प्रशिक्षित आपरेटरों की नियुक्तियां करें और काम में किसी तरह की बाधा ना आने दें। उन्होंने कहा कि जनसहयोग से सभी जरूरी उपकरणों की व्यवस्था और उनके संचालन का प्रबंध किया जाए। संविदा के आधार पर जरूरी चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों की नियुक्तियां करने का काम करें ताकि सभी तरह के रोगियों का उचित इलाज हो सके। समीक्षा बैठक में कालेज के प्राचार्य डा. अरविंद त्रिवेदी और अन्य विभागीय अध्यक्षों ने संसाधनों की अनुपलब्धता और तकनीकी कर्मचारियों की कमी से होने वाली दिक्कतों को उनके समक्ष उठाया। 

समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी अखिलेश सिंह, सीएमओ डा. संजीव मांगलिक, मेडिकल कालेज के तमाम विभागाध्यक्ष एवं प्राचार्य डा. अरविंद त्रिवेदी, जिला मलेरिया अधिकारी शिवांका गौड़, जिला महिला अस्पताल की अधीक्षका रत्नपाल, जिला अस्पताल के सीएमएस डा. बृजेश राठौर, डा. कुणाल जैन, डा. संजय यादव और भाजपा के सांसद और विधायक एवं जनप्रतिनिधि आदि उपस्थित रहे। उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक करीब एक घंटे की देरी से राजकीय विमान से सरसावा एयरपोर्ट पर उतरे थे और बैठक के बाद सरसावा से ही राजकीय विमान से मुरादाबाद के लिए रवाना हो गए। रवाना होने से पहले उप मुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक ने मशीनों के उद्घाटन के साथ-साथ मेडिकल कालेज एवं अन्य विभागों का निरीक्षण भी किया। उन्होंने अधिकारियों को कालेज, अस्पताल एवं वार्डों में साफ-सफाई के निर्देश भी दिए। उनके आगमन की सूचना मिलने से पहले कालेज की ओपीडी, रजिस्ट्रेशन वार्ड, इमरजेंसी एवं शौचालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरूस्त किया गया। मेडिकल कालेज परिसर में ओडिटोरियम का निर्माण भी हो रहा है। जिसका कार्य बहुत धीमी गति से चल रहा है। आमतौर से इस मेडिकल कालेज में साफ सफाई एवं पानी की निकासी की व्यवस्था ना होने की शिकायतें लगातार होती रही हैं। इन सभी बिंदुओं पर स्वास्थ्य मंत्री ने यहां के अधिकारियों को कड़े निर्देश जारी किए।