श्रीराम ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेस में लीडर्स कनेक्ट श्रृंखला शुरू

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। श्रीराम ग्रुप ऑफ़ कॉलेजे के प्रबंधन संकाय में लीडर्स कनेक्ट श्रृंखला का प्रारम्भ किया गया। लीडर्स कनेक्ट श्रृंखला कॉलेज के प्रबंधन संकाय द्वारा प्रबंधन के विद्यार्थियों हेतु विशेष रूप से संचालित की जाने वाली अतिथि व्याख्यान तथा कार्यशालाओं की एक श्रृंखला है। इस श्रृंखला के अंतर्गत न केवल विद्यार्थियों बल्कि संकाय के शिक्षकों हेतु भी एक प्रशिक्षक-प्रशिक्षण कार्य शाला का आयोजन किया गया। 

कार्यक्रम का शुभारम्भ कॉलेज के चेयरमैन डॉ. एससी कुलश्रेष्ठ एवं कार्यक्रम के मुख्या वक्ता अश्विनी चौधरी ने द्वीप प्रज्वलित कर किया। अश्वनी चौधरी नॉएडा स्थित एक बहुराष्ट्रीय कंपनी प्रोवाना इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के लर्निंग एंड डेवलपमेंट विभाग के अध्यक्ष पद पर कार्यरत हैं। कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतुल रघुवंशी ने लीडर्स कनेक्ट श्रृंखला का उद्देश्य बताते हुए अश्वनी चौधरी का परिचय छात्रों तथा शिक्षको से कराया। लीडर्स कनेक्ट श्रृंखला सालभर चलने वाली व्याख्यान तथा कार्यशाला श्रृंखला है। इसके अंतर्गत छात्रों को कॉर्पाेरेट तथा अन्य क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त करने हेतु आवश्यक व्यावहारिक तथा तकनीकी क्षमताओं के विकास हेतु आवश्यक जानकारियां विभिन्न क्षेत्रों के विश्व स्तरीय इंडस्ट्री लीडर्स के माध्यम से प्रदान की जाएँगी। 

विभागाध्यक्ष डॉ अशफ़ाक अली ने बताया कि विभाग का मुख्य उद्देश्य प्रबंधन के छात्रों को एक ऐसा प्लेटफॉर्म प्रदान करना है, जिसके माध्यम से इंडस्ट्री तथा एकेडेमिक्स के बीच रह जाने वाले अंतर को समाप्त करना है। इस अवसर पर कॉलेज के चेयरमैन डॉ. एससी कुलश्रेष्ठ ने कहा कि क्षेत्र में उच्च शिक्षा के जिन आयमो को स्थापित करने का जो सपना उन्होंने देखा है, इस प्रकार के प्रयासों से वह सपना पूरा होता हुआ प्रतीत होता है। कार्यशाला के अंतर्गत मुख्यावक्त अश्वनी चौधरी ने आत्म प्रबंधन, कार्यप्रबंधन के साथ साथ व्यक्तित्व विकास के विभिन्न आयामा पर चर्चा करते हुए छात्रों को विभिन्न तकनीकों एवं सिद्धांतों से अवगत कराया।

इस अवसर पर निदेशक श्री राम ग्रुप ऑफ़ कॉलेजे डॉ. आलोक गुप्ता तथा डीन मैनेजमेंट डॉ सौरभ मित्तल ने विभिन्न प्रकार के कौशल विकास के सिद्धांतों तथा उनके अनुपालन पर चर्चा की। कार्यक्रम में 200 छात्रों ने प्रतिभाग किया तथा प्रबंधन संकाय से श्रुति मित्तल, राजीव रावल, मोहम्मद दानिश तथा अतुल रघुवंशी आदि का सहयोग रहा।