जिले में गड्ढ़ा मुक्त नहीं हुईं सड़कें

गौरव सिंघल, सहारनपुर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सड़कों को गड्ढ़ा मुक्त करने के निर्देशों का लोक निर्माण विभाग सही ढंग से पालन और क्रियान्वयन नहीं करा पाया है। लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद खुद भी इस अभियान की विफलता पर नाखुशी जाहिर कर चुके हैं। अब शासन ने गड्ढ़ा मुक्त करने के अभियान की अवधि 30 नवंबर तक बढ़ा दी है। लोक निर्माण विभाग सहारनपुर के मुख्य अभियंता बालेंद्र ने आज दावा किया कि चालू पखवाड़े के भीतर जिले की सभी सड़कों को गड्ढ़ा मुक्त कर दिया जाएगा।

ध्यान रहे प्रदेश सरकार में देवबंद क्षेत्र के विधायक बृजेश रावत लोक निर्माण विभाग के राज्य मंत्री हैं। उनकी विधान सभा क्षेत्र में भी अनेकों सड़कें खस्ता हाल हैं। खासतौर से ग्रामीणों और किसानों के लिए जी का जंजाल बनी हुई हैं। यातायात विभाग की शिकायत है कि सड़कों में बने गड्ढ़ों के कारण आए दिन सड़क हादसों में वृद्धि हो रही है जिस कारण लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ रहा है। साथ ही वाहनों को भी नुकसान हो रहा है।

देवबंद-चंदेना कोली की चार किलोमीटर की सड़क और तल्हेड़ी बुजुर्ग बस स्टैंड से चंदेना कोली गांव की छह किलोमीटर की सड़क खस्ता हाल है। इन सड़कों जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढ़े बने हुए हैं। बड़गांव क्षेत्र में शिमलाना-सिसोनी मोड़ से आगे की सर्विस रोड़ खस्ता हाल है। ग्राम लुकदड़ी के प्रधान रामभूल सिंह एवं राजपूत समाज के अन्य लोगों ने बताया कि छह किलोमीटर लंबी सड़क में गड्ढ़े ही गड्ढ़े बने हुए हैं। चिलकाना-सहारनपुर सड़क मार्ग बने गड्ढ़ों को नहीं भरा गया है। पटनी से पिलखनी और गुमटी जाने वाली सड़कों की हालत बेहद ही खराब है। भाजपा विधायक मुकेश चौधरी के नकुड़ विधानसभा क्षेत्र के कस्बा चिलकाना और ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कें गड्ढ़ा मुक्त अभियान से अभी तक अछूती रह गई है। रायपुर से मिर्जापुर को जाने वाली तीन किलोमीटर लंबी सड़क का डेढ़ किलोमीटर का हिस्सा तो पक्का कर दिया गया और रायपुर की तरफ का डेढ़ किलोमीटर का हिस्सा अभी भी कच्चा पड़ा है। देवबंद राष्ट्रीय राजमार्ग के साईंधाम मंदिर से त्रिवेणी चीनी मिल देवबंद को जाने वाली सड़क को पक्का किए जाने का आश्वासन कई सालों से दिया जा रहा है। राज्य मंत्री बृजेश रावत ने क्षेत्रीय लोगों को भरोसा दिया कि उन्होंने शासन से इस सड़क के निर्माण को मंजूर करा दिया है। देवबंद चीनी मिल जिस पर इन दिनों किसान भारी वाहनों से लेकर गन्ने की आपूर्ति करते हैं उसके कुछ हिस्से को चीनी मिल ने इस बार बनवाया हैं लेकिन उसका भी रणखंड़ी फाटक से चीनी मिल तक का बड़ा हिस्सा खस्ता हाल और गड्ढ़ायुक्त और धूल भरा है। उससे मिल क्षेत्र का वायु प्रदूषण बेहद खराब हैं। मिल कर्मचारी और किसानों को वायु प्रदूषण से परेशानी हो रही है। जनपद के लोगों उम्मीद है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सहारनपुर के लोक निर्माण राज्य मंत्री सहारनपुर जिले की तमाम खस्ताहाल सड़कों को इस माह की अवधि पूरी होने तक दुरूस्त कराने का काम करेंगे।