स्वास्थ्य पर्यवेक्षकों का नियमित टीकाकरण एवं ग्रामीण स्वास्थ्य पोषण दिवस के लिए अभिमुखीकरण कार्यक्रम आयोजित

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय परिसर स्थित रेड क्रॉस सभागार में गुरुवार को सीएमओ डॉ महावीर सिंह फौजदार की अध्यक्षता में यूनिसेफ के सहयोग से स्वास्थ्य पर्यवेक्षकों का नियमित टीकाकरण एवं ग्रामीण स्वास्थ्य पोषण दिवस(VHSNDवीएचएसएनडी) के लिए अभिमुखीकरण का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार द्वारा ने वीएचएसएनडी(VHSND) सत्र पर उपयोग होने वाली सामग्री (VHIR/RCH) एवं (VAB) परिवारों के विषयकी काउंसलिंग के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की गई।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह फौजदार ने बताया कि बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण बेहद जरूरुरी है। टीकाकरण के लक्ष्यों की पूर्ति के लिए बनायीए गयीए प्लान योजना के अनुसार कार्य करें।
अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. शरण सिंह ने बताया कि समुदाय में नियमित टीकाकरण पर जोर दिया जाना बेहद जरूरुरी है। यह टीके 12 प्रकार की बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं,। जिसमें टीबी, पोलियो, हेपेटाइटिस-बी, डिप्थीरिया, टिटनेस, मीजिल्स परट्यूटिस (काली खासी), रूबेला, जेई (दिमागी बुखार), निमोनिया, वायरल डायरिया, इन्फ्लुएंजा आदि शामिल हैं। निजी अस्पतालों में जहां इन बीमारियों से बचाव के लिए महंगे दामों पर टीके लगवाने पड़ते हैं। वहीं सरकारी अस्पतालों में यह टीके पूरी तरह से नि:शुल्क उपलब्ध हैं।
यूनिसेफ के मंडलीय कोकॉऑर्डिनेटर हरेंद्र पंवार ने पर्यवेक्षकों को टीकाकरण सत्रों पर सहयोगात्मक सुपरविजन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही लॉजिस्टिक की उपलब्धता को सुनिश्चित करने और वैक्सीन की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के बारे में बताया।
यूनीसेफ की जिला समन्वयक तरन्नुम ने टीकाकरण के प्रति उदासीन परिवारों को किस प्रकार लामबंद प्रोत्साहित किया जाए, उसके बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही टीकाकरण न कराने वालोंले की सूची की गुणवत्ता एवं किस प्रकारबनाकर सामुदायिक मीटिंग के माध्यम से परिवारों कोउन्हें टीकाकरण के लिए चिन्हित किया जाए, तथा रिपोर्टिंग प्रपत्रइस पर चर्चा की।  गई।
इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजीव निगम, डॉ अरविंद पंवार, डॉ प्रशांत कुमार, डीएआईओ प्रदीप कुमार शर्मा, वीसीसीएम इमरान खान, बीएमसी संदीप पुंडीर एवं ब्लॉक से आए चिकित्सा अधीक्षक, चिकित्सा अधिकारी,स्वास्थ्य प्रवेक्षकपर्यवेक्षक, एलएचवी उपस्थित रहे।