कवि ने अनूठे तरीके से से मनाया अपने पुत्र का प्रथम जन्मदिवस
शि.वा.ब्यूरो, आगरा। दिव्यांग दर्पण पत्रिका के सौजन्य से पत्रिका दिव्यांग दर्पण के प्रधान संपादक प्रताप सिंह सिसोदिया के सुपुत्र  भानु प्रताप सिंह के प्रथम जन्मोत्सव तथा आजादी के अमृत महोत्सव के संयुक्त उपलक्ष्य में अखंड कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह के दो दिवसीय कार्यक्रम का भव्यता पूर्ण आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में देशभर के प्रत्येक प्रान्त से कवि व वक्ताओं ने अपनी सहभागिता दर्ज कराई, जिनमें कवि नरेंद्र शर्मा "नरेन्द्र" अलीगढ़, सुरेश सिँह "फक्कड़" उन्नाव. ग़ाफ़िल स्वामी अलीगढ़, अर्जुन सिंह चाँद झांसी", डॉ भानु प्रताप सिंह प्रेम शर्मा "प्रेम" नोएडा, डॉ भगवती प्रसाद मिश्र "अतीत" जैतपुर, हरि बहादुर सिंह "हर्ष"प्रतापगढ़, सतेंद्र सिंह " सौम्य" प्रतापगढ़, देवेंद्र सिंह चौहान हरदोई, डॉ मीनाक्षी मीनल मुजफ्फरपुर बिहार, धीरेंद्र सिंह बिभु, विकल फर्रुखाबादी, चाँदनी समर मुजफ्फरपुर बिहार, मान सिंह मनहर, राजकुमार सिसोदिया हापुड़, अशोक अश्रु, डॉ राजेंद्र मिलन, मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, कुमारी आरती, अजय सिंह राठौड़, कामेश मिश्र सनसनी आदि ने प्रमुख रूप से काव्यपाठ किया।

कार्यक्रम 18 अगस्त को प्रातः 9 बजे प्रारंभ होकर लगातार 27 घंटे तक अनवरत चलते हुए 19 अगस्त को दोपहर 12 बजे अंतिम सत्र का समापन हुआ। कार्यक्रम का प्रारंभ एवं समापन वैदिक हवन से हुआ। उपस्थित कवियों ने अपनी कविताओं से खूब हंसाया, रूलाया, गुदगुदाया, भक्ति, करुण ओज आदिं नवरस तालियां बटोरी । दो - दो घंटे के सत्रों में आयोजित कार्यक्रम भव्यतापूर्ण रहा। उपस्थित महानुभावों ने भानु प्रताप सिंह को कोटि-कोटि आशीष प्रदान किये। कार्यक्रम में प्रताप सिंह सिसोदिया के साथ नीरज प्रताप सिंह सिसोदिया, लक्ष्मी, रोशनी, उर्मिला, इंद्रा, मानसिंह मनहर, अजय सिंह राठौड़, नरेश गौस्वामी आदि का सराहनीय योगदान रहा।