राष्ट्रीय लोक अदालत 24831 मुकदमें निस्तारित
शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। आज द्वितीय शनिवार को जिला कचहरी परिसर में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारम्भ जनपद न्यायाधीश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष राजीव शर्मा द्वारा दीप प्रज्जवल कर किया गया। आज आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में 24831 मुकदमें निस्तारित करते हुए 40877000 रूपये प्राप्त किये गये।
राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन के अवसर पर जनपद न्यायाधीश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने राष्ट्रीय लोक अदालत के लाभ बताते हुए कहा कि लोक अदालत का मुख्य उद्देश्य वादकारियों को सरल एवं सुलभ न्याय प्रदान करना है। उन्होंने यह भी कहा कि वादकारी आपसी समझौते के आधार पर वाद का निस्तारण करते हैं तो उनके मध्य आपसी सौहार्द्र बना रहता है। इस अवसर पर प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय पंकज अग्रवाल, पीठासीन अधिकारी मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण श्री मलखान सिंह, लोक अदालत के नोडल अधिकारी व अपर जिला जज शक्ति सिंह सहित समस्त न्यायिक अधिकारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सलोनी रस्तोगी ने किया।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सलोनी रस्तोगी ने बताया कि आज आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश पंकज अग्रवाल की अध्यक्षता में 59 पारिवारिक मुकदमें सभी पारिवारिक न्यायालयों द्वारा निस्तारित करते हुए 1522000 रूपये समझौता धनराशी के रूप में पीड़ित दिलाए गये। सलोनी रस्तोगी ने बताया कि मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण के पीठासीन अधिकारी मलखान सिंह द्वारा 155 वादों का निस्तारण करते हुए 42477200 रूपये की प्रतिकर के रूप में दिलाये गये। इसी प्रकार जिला अधिकारी चन्द्र भूषण सिंह के नेतृत्व में राजस्व अधिकारियों द्वारा 19789 प्रकरणों का निस्तारण किया गया।
विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव ने बताया कि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मनोज कुमार जाटव ने 465 फौजदारी शमनीय वादों का निस्तारण किया। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में आज विभिन्न बैंकों, भारत संचार निगम लिमिटेड आदि के द्वारा सक्रिय सहभागिता की गयी। भारत संचार निगम लिमिटेड के द्वारा 22 मामलों का, बैंको के द्वारा 403 बैंक ट्टण मामले समझौते के आधार पर निस्तारण कराकर कुल धनराशी 40877000 रूपये आपसी सुलह समझौते के आधार पर निस्तारण कराकर प्राप्त किये।
विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सलोनी रस्तोगी ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत के सकुशल समापन पर नोडल अधिकारी शक्ति सिंह ने लोक अदालत में सहभागिता करने वाले समस्त न्यायिक, पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों का आभार व्यक्त किया। सलोनी रस्तोगी ने बताया कि लोक अदालत में कोविड गाइडलाईन का पालन किया गया तथा मास्क लगाकर ही वादकारियों व अधिवक्ताओं को न्यायालय परिसर में प्रवेश दिया गया।