महिला एंव बाल विकास राज्यमंत्री स्वाति सिंह ने की विभागीय योजनाओं की समीक्षा।
शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। महिला एंव बाल विकास राज्यमंत्री स्वाति सिंह ने समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला, पति की मृत्यु उपरांत निराश्रित महिला पेंशन, वन स्टॉप सेंटर, बेटी बचाओ बेटी पढाओ, वर्किंग वीमेन होस्टल, बाल सेवा योजना और गृहों के संचालन पर विशेष निर्देश दिए गए। उन्होंने उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारियों को योजनाओं के सक्रिय क्रियान्वयन हेतु भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों को प्रोत्साहित किया जाएगा व लापरवाह अधिकारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि मिलेगी। स्वाति सिंह ने कहा कि पति की मृत्युपरान्त निराश्रित महिला पेंशन में अधिक से अधिक लाभार्थियों को लाभान्वित करने हेतु मिशन शक्ति के अंतर्गत अभियान चलाते हुए प्रत्येक 15 दिन में तहसील व ब्लाक स्तर पर स्वावलंबन कैम्प लगाकर सभी पात्र लाभार्थियों के आवेदन पत्रों को पूर्ण कराया जाये। मीडिया एंव अन्य माध्यमों से कैम्प लगाने के संबंध में प्रचार-प्रसार किया जाये तथा जनप्रतिनिधियों का अपेक्षित सहयोग प्राप्त किया जाये। उन्होंने मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा करते हुए सबसे कम प्रगति वाले 10 जनपदों को सचेत करते हुए प्रगति में सुधार हेतु निर्देशित किया। बैठक में टॉप 10 जनपदों को कहा गया कि उनके लिये निर्धारित लक्ष्य कम है और अधिक प्रयास किये जाने आवश्यक हैं। साथ ही सबसे खराब प्रर्दर्शन वाले 10 जनपदों के अधिकारियों को आगामी 1 माह में प्रगति में सुधार हेतु निदेर्शित किया गया अन्यथा उनपर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए गए।
स्वाति सिंह द्वारा समस्त जिला प्रोबेशन अधिकारियों को निर्देर्शित किया गया कि समस्त जनपदों में वन स्टाप सेन्टर के भवन का निर्माण कार्य 03 माह में अनिवार्य रूप से पूर्ण करा दिया जाये। 13 जनपदों में अभी भी कार्मिको का चयन नुई होने पर स्वाति सिंह ने 1 माह में चयन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढाओ का संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिये समाज के सभी वर्गाे यथा-ग्रामप्रधान व अन्य जन प्रतिनिधियों के साथ संवाद स्थापित किया जाये। प्रत्येक माह जनपद में इस योजना के अर्न्तगत एक बडा आयोजन किया जाये। निदेशक महिला कल्याण मनोज राय ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, उत्तर प्रदेष सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकता वाली योजना है। मिशन शक्ति के अंतर्गत प्रस्तावित स्वावलंबन कैम्पों में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, पति की मृत्युपरान्त निराश्रित महिला पेंशन योजना तथा बल सेवा योजना के आवेदन पत्र भी भराये व पूर्ण किये जायें। उन्होनें कहा समस्त जनपदीय अधिकारी सक्रिय हो जायें तथा बाल सेवा योजना की तरह अन्य योजनाओं का प्रचार-प्रसार भी करें तथा दिये गये लक्ष्यों को प्राप्त करने हेतु समयबद्ध कार्ययोजना पर कार्य करें।
महिला एंव बाल विकास विभाग की प्रमुख सचिव वी हेकाली झिमोमी ने समीक्षा के दौरान उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारियों को निर्देश दिये कि समस्त जिला प्रोबेशन अधिकारियों के साथ योजनाओं में जोड़े जाने वाले लाभार्थियों के संबंध में प्रतिदिन समीक्षा करें तथा अपने जनपद में सप्ताह में कम से कम 02 दिन संस्थाओं का निरीक्षण करें। उन्होंनें कहा कि संस्थाओं के जीणोधार तथा रखरखाव हेतु निदेशालय द्वारा प्रति गृह 5 लाख की धनराषि प्रेषित की गई है, जिसका पूर्ण उपयोग करते हुए तत्काल संस्थाओ का सुदृढीकरण करायें तथा साज-सज्जा एंव सफाई आदि की व्यवस्था की जाये। बच्चों के खेलने व मनोंरंजन के प्रबंध तत्काल किये जायें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के प्रचार-प्रसार पर अधिक प्रयास करने की आवश्यक्ता है। इसमें जनप्रतिनिधियों यथा सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, ब्लॉक प्रमुख आदि का सहयोग लिया जाये। प्रत्येक ग्राम सभा व ब्लॉक के स्तर पर योजना के प्रचार प्रसार तथा आवेदन प्राप्त करने के उद्देश्य से कैम्प लगाया जाये जिसके बारें में समस्त स्तरों पर जनप्रतिनिधियों व मीडिया के माध्यम से पहले ही भरपूर प्रचार प्रसार करते हुये आम जन मानस तक पहुंच बढ़ाई जाये।