क्या है धराधाम
शि.वा.ब्यूरो, मुम्बई। विश्व शांति आपसी प्रेम और सद्भावना कौमी एकता का अद्भुत प्रतीक है धरा धाम। पूरी दुनिया को एकता के सूत्र में बांधने के संकल्प के साथ एक संदेश देता यह धराधाम अनूठा होगा उत्तर प्रदेश के शहर गोरखपुर के पास में स्थित धरा धाम अभी निर्माणाधीन अवस्था में है इसमें सभी धर्मों के आस्था स्थल जैसे मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर सभी एक ही परिसर बनेगा।इंसानियत का पाठ पढ़ाता है। यह धराधाम सौहार्द शिरोमणि महामनीषी गुरुदेव डॉक्टर सौरभ पाण्डेय जी ने शुरू की है। अपनी जिंदगी अपने अनुभव अपने मन के शब्दों में छिपी पवित्र अग्नि को प्रज्वलित कर विश्व शांति हेतु धारा धाम संस्था के माध्यम से पूरी दुनिया को जोड़ने का संकल्प लिया है। दुनिया को मानवीय भावना का वैश्विक संदेश देगा यह धराधाम स्थल। आदरणी डॉ. सौरभ पाण्डेय जी देश के अद्भुत आध्यात्मिक और मानवता के प्रतीक के रूप में जाने जाते हैं। धराधाम संगठन के संस्थापक के रूप में बेहद चर्चित शख्सियत हैं। डॉक्टर सौरभ पहले भी कई नेक कार्य कर चुके हैं निरक्षरों को साक्षर करने के लिए चौपाल लगाने से लेकर टी बी के मरीजों के इलाज तक का जिम्मा खुद लिया है। धराधाम इंटरनेशनल महामारी के इस दौर में एक और नयी मिसाल कायम करने जा रही है।जो प्रकृति के प्रति सभी को जागरूक करेगी। पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने के लिए फ़िल्म ऑक्सीजन बहुत जल्द हम सभी के सामने आने वाली है। धराधाम इंटरनेशनल द्वारा वैश्विक पटल पर बनाई जा रही फ़िल्म ऑक्सीजन इन टेन सेकंड का पहला पोस्टर वर्चुवल समारोह में सौहार्द शिरोमणि एवम फ़िल्म निर्माता डॉ. सौरभ पाण्डेय एवम डॉ कोप्रोड्यूसर डॉ प्रेम प्रकाश पाण्डेय द्वारा जारी कर दिया गया। फ़िल्म लेखन सत्य प्रकाश सिंह ,महेश ओझा,गीत डॉ विकास चतुर्वेदी ,संगीत अशोक राव,निर्देशन-साहिल खान एवम फ़िल्म में लीड रोल डॉ करिश्मा मानी हैं। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है लेकिन धर्म के नाम पर दंगे फसाद बहुत ज्यादा होता रहा है। धार्मिक टकराव कहीं ना कहीं देश को प्रभावित कर क्षति पहुंचाते रहे हैं। इन सभी बातों को सोच कर समझ कर डॉ सौरभ ने नई पहल की धराधाम बनाकर। धराधाम के मुखिया डॉ सौरभ पाण्डेय जी समाजसेवी है। सर्वधर्म सद्भाव के प्रचार प्रसार के लिए हमेशा अग्रसर होकर काम करते रहे हैं। सर्वधर्म समभाव यानी कौमी एकता की बात सौरभ पाण्डेय जी हमेशा ही करते रहे हैं और धराधाम इन्हीं बातों का अनोखा अद्भुत रिजल्ट रहा। धराधाम कौमी एकता को मजबूत बनाने में कामयाब होगी। धरा धाम में मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, गिरजाघर के साथ प्रमुख सभी धर्मों के प्रतीक स्थल के साथ-साथ मां धरती का मंदिर भी बनेगा। इतने सारे धर्मों का प्रतीक स्थल एक परिसर में दुनिया में पहला होगा। धराधाम परिवार बहुत बड़ा परिवार बन चुका है। सिनेस्टार से लेकर राइटर, समाजसेवी, पत्रकारिता जगत के लोग सभी जुड़कर आनंद महसूस कर रहे हैं। धराधाम का शिलान्यास 8 जनवरी 2017 को बॉलीवुड के चर्चित सिनेस्टार राजपाल यादव द्वारा किया गया था। करोड़ो की लागत के साथ 2030 में बनकर तैयार हो जाएगा। कौमी एकता को मजबूत करने की यह पहल डॉक्टर सौरभ की कामयाब होती दिख रही है। समाज के उत्थान की सोच रखने वाला कोई आम इंसान हो ही नहीं सकता। समाज को नई दिशा दे रहे डॉ सौरभ सचमुच एक अलग मिसाल होगें। डॉक्टर सौरभ के कार्यों की बात की जाए तो लिस्ट बहुत लंबी होगी ।मानव धर्म को एक साथ जोड़ना आसान नहीं होता है लेकिन डॉक्टर सौरभ ने समाज के सामने यह अलख भी जगाया की "धर्म बस मानव धर्म है"। डॉक्टर साहब का कहना है धरा धाम इसी की मिसाल है।एक अनोखी अलौकिक मिसाल धरा धाम है। धराधाम की लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है डॉक्टर सौरभ के अब तक के कार्यो की बात करें तो कोई नेक कार्य नहीं जिसमें इन्होने पहल ना दिखाई हो।जहाँ और जब जरूरत हो ये मौजुद होते हैं।इनके इस नेक कार्य में इनके पिता सोमनाथ पाण्डेय और परिवार के साथ और भी साथी साथ दे रहे हैं जिनमें इंटरनेशनल निदेशक सूर्य प्रकाश पाण्डेय,रत्नाकर तिवारी,सीईओ डॉ प्रेम प्रकाश ,जसपाल सिंह ,डॉ. एहसान अहमद, राजा भाऊ सेठ ,श्रीमती रागिनी, डॉ रत्नेश कुमार पाण्डेय,डॉ सतीश चंद शुक्ला विनय श्रीवास्तव ,डॉ निक्की शर्मा,डॉ शम्भू पवांर महेश ओझा प्रदीप तिवारी ,का मार्गदर्शन उनके साथ हमेशा रहा है। धराधाम विश्व में एक अलग मिसाल कायम करें एक अलग पहचान दिलाए यही कामना है।धरा धाम पहला ऐसा परिसर होगा जहां एक चारदीवारी के परिसर में सभी धर्मों के लोग एक साथ अपने अपने धर्म स्थल में पूजा, अर्चना, इबादत करेंगे। एक अनूठी मिसाल दुनिया के सामने रखी जाएगी। धराधाम में आप सभी का स्वागत है जहां सर्व धर्म समभाव की फसल लहलहाने वाली है। कौमी एकता की मिसाल धरा धाम अपने मकसद में कामयाब हो यही प्रार्थना है।