गांधी जयन्ती पर मध्यस्थता एवं सुलह विषय पर विधिक साक्षरता शिविर आयोजित


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण से प्राप्त कलेन्डर के अनुसार जनपद न्यायाधीश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष राजीव शर्मा के निर्देशन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से गांधी जयन्ती के अवसर पर दीवानी न्यायालय के केन्द्रीय हाल में मध्यस्थता एवं सुलह विषय पर विधिक साक्षरता शिविर/सेमिनार का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता जनपद न्यायाधीश व संचालन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सलोनी रस्तोगी ने किया।


विधिक साक्षरता शिविर में जनपद न्यायाधीश राजीव शर्मा ने कहा कि पक्षकारों के मध्य कई बार छोटी-छोटी बातों पर मतभेद हो जाता है तथा ये छोटी बातें बड़ी बन जाती हैं और मामला न्यायालय तक पहुंच जाता है। ऐसे में जिन मामलों में सुलह समझौते के तत्व विद्यमान हों, उन मामलों में न्यायालयों के न्यायाधीशगण तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में कार्यरत मध्यस्थगण द्वारा दोनों पक्षकारों को समझाते हुए उन्हें अपनी बात रखने का अवसर दिया जाता है तथा जिस बिन्दु पर दोनों पक्षकारों में मुख्य रूप से मतभेद हों, उस बिन्दु पर दोनों पक्षों की प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए मामले का निपटारा आपसी बातचीत के आधार पर करने के लिये प्रेरित किया जाता है। मध्यस्थता, सुलह समझौता तथा लोक अदालत मामलों के निपटारे के लिये ऐसे विकल्प हैं, जिनके माध्यम से वादकारियों सुलभ, सस्ता व शीघ्र न्याय उपलब्ध कराया जाता है।  दोनों ही पक्षकारों की जीत होती है तथा पक्षकारों के सम्बन्ध आजीवन सौहार्दपूर्ण बने रहते हैं।  उन्होंने कहा कि हमें अपने विवादों तथा मुकदमों को मध्यस्थता तथा लोक अदालत के माध्यम से निपटाने के लिये अधिक से अधिक लोगों को प्रेरित करना चाहिये।



जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सलोनी रस्तोगी ने बताया कि कोविड-19 से बचाव के दृष्टिगत जनपद न्यायाधीश की अध्यक्षता में जिला कारागार में निरूद्ध बन्दियों के मामलों का शीघ्र निस्तारण करने के लिये ई-लोक अदालत का प्रारम्भ माह सितम्बर 2020 से किया गया था और 19 सितम्बर 2020 को ई-लोक अदालत के माध्यम से तीन बन्दियों के मामलों का निस्तारण किया जा चुका है। इसी प्रकार प्रत्येक माह ई-लोक अदालत के माध्यम से मामलों का निस्तारण किया जायेगा। इस अवसर पर उपस्थित सभी श्रोतागण को कोविड-19 के सम्बन्ध में राज्य सरकार द्वारा व उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने की अपील की गयी।



इस अवसर पर अपर जिला जज प्रथम अरूण कुमार पाठक, अपर जिला जज तेरह ओमवीर सिंह, अपर जिला जज छः निशान्त देव, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रैट रविकान्त यादव, अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन कोर्ट नं0-4 अंकित रस्तोगी, अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन/फास्ट ट्रैक कोर्ट नं0-2 गगनदीप, अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन/फास्ट ट्रैक कोर्ट नं0-1 अभिषेक चौहान, सदस्य किशोर न्याय बोर्ड बीना शर्मा तथा मध्यस्थ अधिवक्ता ऋषिपाल सिंह, प्रवीण कुमार शर्मा, धन प्रकाश त्यागी, कुमुद सिंह, सत्येन्द्र कुमार त्यागी तथा मीनाक्षी शर्मा परामर्शदाता, अन्तिमा सिंह परामर्शदाता, पूजा शर्मा परामर्शदाता, कुलदीप कुमार, नामिका अधिवक्ता, मानसी शर्मा व सुमिता रानी एडवोकेट आदि उपस्थित रहे।