रक्षा बंधन

डॉ. राजेश कुमार शर्मा"पुरोहित", शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

भाई मेरे सरहद से जल्दी आ जाना

बहना की राखी को कलाई पर बंधवा जाना

 

कुमकुम अक्षत रोली चन्दन भैया मैं लगाऊंगी

थाल सजाकर भैया मेरे आरती खूब उतारूंगी

उठा तिरंगे को जय हिन्द बोलते आ जाना

भाई मेरे...

बहना........

 

कच्चे धागों का ये  बन्धन , भैय्या याद रख लेना.

रक्षा का वचन दिया तुमने वह आज निभा देना

बैरी को धूल चटा भैय्या घर जल्दी आ जाना

भाई....

बहना.....

 

हिंदुस्तान है प्यारा दिलोदिमाग में रखना

जय हिन्द के नारे को सदा ही बोलते रहना

तिरंगे को सलामी दे भैय्या लौट घर आना

भाई....

बहना...

 

भवानीमंडी, राजस्थान