नियमित टीकाकरण आरआई में शामिल होगी निमोनिया की वैक्सीन, उदघाटन 13 अगस्त को


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। निमोनिया की वैक्सीन नियमित टीकाकरण में शामिल होगी और 13 अगस्त को इसका शुभारम्भ जनपद में होना है। यह बातें मुख्य चिकित्सा अधिकारी मुजफफरनगर द्वारा बताई गयीं। उन्होंने बताया कि जनपद में प्रतिरक्षण से जुड़े जिले के अधिकारियों को पूर्व में वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से जिला कलेक्ट्रेट एनआईसी में राज्य स्तर से दो दिवसीय प्रशिक्षण दिया जा चुका है तथा साथ ही साथ जिला व ब्लाॅक स्तरीय अधिकारियों व कर्मचारियों के द्वारा भी डब्ल्यूएचओ, यूनिसेफ, पीसीआई. कोर व यूएनडीपी के सहयोग से प्रशिक्षण प्राप्त किया जा चुका है। नियमित टीकाकरण अभियान में इस वैक्सीन को शामिल किए जाने का बहुत दिनों से प्रदेश वासियों को इन्तजार था। प्रदेश के 19 जिलों में यह वैक्सीन पहले से ही बच्चों को लगाई जा रही थी इस तरह अब यह निमोनया की वैक्सीन की सुविधा इस माह 13 अगस्त से उत्तर प्रदेश के समस्त जनपदों में एक साल तक के बच्चों को दी जाएगी।  मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि निमोनिया की वैक्सीन (न्यूमोकोकल कांजूगेट) सरकारी नियमित टीकाकरण में शामिल होने जा रही है, इसके लिए शासन से 13 अगस्त की तिथि निश्चित की गयी है। 13 अगस्त 2020 को जनपद में इस वैक्सीन का उदघाटन होगा। 
महानिदेशक परिवार कल्याण डाॅ0 मिथिलेश चतुर्वेदी ने इस सम्बन्ध में उत्तर प्रदेश के 56 जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को नियमित टीकाकरण के चैथे अभियान में इस वैक्सीन को शामिल किए जाने के सम्बन्ध में पत्र लिखा था। जिसमें लिखा गया है कि मार्च माह में लांच किया जाना था, परन्तु कोरोना संक्रमण और लाॅकडाउन के कारण इसको स्थगित करना पड़ा, अब इसे 13 अगस्त 2020 से नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा। वैसे बाजार में इसकी कीमत काफी ज्यादा थी और यह आम आदमी की पहुॅंच से बाहर थी लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार इस निमोनिया वैक्सीन को सभी को निशुल्क उपलब्ध कराएगी।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 राजीव निगम ने बताया कि निमोनिया वैक्सीन न्यूमोकोकल कांजुगेट के 3 डोज बच्चे को इंजेक्शन के रूप में दी जानी है। जोकि 0 से लेकर 9 माह तक के समस्त बच्चों को तीन डोज के रूप में दी जाएगी। प्रथम डोज बच्चे के डेढ़ माह पूरा होने पर पैंटावेलेंट 1 के साथ, दूसरी डोज साड़े तीन माह पूरा होने पर पैंटावेलेंट 3 के साथ, और तीसरी बूस्टर डोज बच्चे के 9 माह पूरा होने पर एम.आर. 1 के साथ दी जानी है।