तन्हाई का सफर

डॉ. राजेश कुमार शर्मा"पुरोहित", शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

तन्हाई में जीने का अंदाज अलग होता है।

रूठने और मनाने का अंदाज़ अलग होता है।।

 

दो जिस्म अलग अलग हो बेशक जमाने मे।

रूह से रूह का मिलन मगर अलग होता है।।

 

आसान नहीं बीते वक़्त को भुलाना दोस्त।

यादों के महल को गिराना मगर अलग होता है।।

 

आँख से आँसू बहते हैं झर झर तन्हाई में।

वो चाँदनी रात में बातों का अंदाज़ अलग होता है।।

 

मंजिलें इश्क की नित नया सबक सीखाती है।

पुरोहित तन्हाई का सफर कितना अलग होता है।।

 

भवानीमंडी, राजस्थान