शिवशक्ति मंच काव्य सृजन की पाठशाला 

शि.वा.ब्यूरो, बाराबंकी। कविता जीवन के प्रकृष्टतम विवर्त हैं और ये गतिशीलता के लिए प्रतिबन्धक नहीं प्रेरक है। विश्व शिवशक्ति साहित्य कला उन्नयन मंच बाराबंकी, अयोध्या मंडल उत्तर प्रदेश की एक साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच हैं। शिवशक्ति मंच में प्रतिदिन सोशल मीडिया द्वारा छंद लिखना, चित्र बनाना, लघुकथा-कहानी लिखना, भाषा-व्याकरण इत्यादि की कक्षाओं का नियमित संचालन होता हैं। कविता से वही आह्लादित हो सकता है जो स्वयं कवि है। कविता करने से ही कवि की पदवी नहीं मिलती। कवि के हृदय को कवि के काव्य-मर्म को जो जान सकते है, वे भी एक प्रकार से कवि है।

मंच विश्व शिवशक्ति के संस्थापक अध्यक्ष कवि प्रणव भास्कर तिवारी प्रीतम शिववीर रत्न ने बताया कि मंच की स्थापना जनवरी 2019 में हुई थी, तबसे मंच अनवरत संचालित है। कविता अनन्त पुण्य का फल है, कवित्व हृदय से उतपन्न वर्णमय चित्रण है। जो नभ को आपूरित नहीं कर सकता वह गीत व्यर्थ है। जो मन को आपूरित नहीं कर सकता वह उत्सव व्यर्थ है। शिवशक्ति मंच सदा सत्य सृजन मार्ग पर प्रगतिशील है।