निरीक्षण में मिली खामियां, त्रिवेणी चीनी मिल के उपाध्यक्ष डा. अशोक कमार व तौल लिपिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। चीनी मिल खतौली द्वारा एडवांस गन्ना खरीद करने, क्रयकेन्द्रो के बन्द होने, नियमित रूप से इण्डेण्ट न देने, घटतौली आदि से सम्बन्धित लगातार प्राप्त हो रही शिकायतों के दृष्टिगत गन्ना मंत्री सुरेश राणा एवं प्रमुख सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा दिये गये निर्देशों के क्रम में जिला गन्ना अधिकारी डा. आरडी द्विवेदी द्वारा अपने अधीनस्थ अधिकारियों के साथ त्रिवेणी शुगर यूनिट के गन्ना तौल क्रयकेन्द्रों पचेण्डा कलां द्वितीय, मुस्तफाबाद, मखियाली, चांदपुर, ककरौली द्वितीय, जानसठ प्रथम एवं द्वितीय का औचक निरीक्षण किया गया।


विभागीय सूत्रों के अनुसार पचेण्डा कलां द्वितीय- निरीक्षण के समय क्रय केन्द्र बन्द है। मिल तौल लिपिक मौके पर नही है। चौकीदार घसीटा उपस्थित मिला। मौके पर लगभग 1000 कुन्तल जमीन पर तौला हुआ पडा मिला, जिसका उठान नही हुआ है। मौके पर किसान प्रदीप कुमार ने बताया कि 28  मई 2020 को भी तौल नही हुई। मौके पर तौल बन्द की कोई नोटिस चस्पा नही पाया गया। इसी क्रम में मोबाइल नं. 9536555407 से शिकायत प्राप्त हुई कि चीनी मिल द्वारा पचेण्डा प्रथम क्रयकेन्द्र पर एडवांस गन्ना खरीद की जा रही है।




मुस्तफाबाद निरीक्षण के समय क्रयकेन्द्र पर मानक बांट उपलब्ध न होने के कारण कांटे की शुद्धता की जांच नही हो सकी।मखियाली निरीक्षण के समय क्रयकेन्द्र पर तौल कार्य बन्द है। 27 मई के उपरान्त तौल कार्य नही किया गया है। यहाँ करम सिंह चौकीदार मौके पर मौजूद पाया गया। प्लाट मे तौल किया गया लगभग 800 कुन्तल गन्ना दिनांक 27 मई 2020 से मौजूद है। कांटा जांच रजिस्टर पर 23 मई के उपरान्त कोई भी प्रविष्टि नही की गयी है। तौल लिपिक 13 मई से क्रय केन्द्र पर तैनात है। तौल कार्य बन्दी की कोई नोटिस चस्पा नही हैं।
चांदपुर निरीक्षण के समय मौके पर तौल बन्द पायी गयी। क्रयकेन्द्र पर मिल तौल लिपिक एवं चौकीदार अनुपस्थित मिला। मौके पर लगभग 400 कुन्तल गन्ना जमीन पर तौल कर पडा मिला, जिसका उठान लोडर द्वारा किया जा रहा हैं। लोडर के ड्राईवर सहनवाज द्वारा बताया गया कि 27मई से तौल कार्य नही किया गया हैं। मौके पर तौल बन्द की कोई नोटिस चस्पा नही हैं।
ककरौली निरीक्षण के समय क्रयकेन्द्र पर किसानो की अत्यधिक भीड (लगभग 50 लोग) तथा मोरना-जानसठ मार्ग पर गन्ने से भरी गाडियां तौल की प्रत्याशा में खडी पायी गयी। पूछताछ मे किसानो ने बताया कि ग्राम में खतौली चीनी मिल के अन्य क्रयकेन्द्रों (ककरौली तृतीय, पंचम एवं तेवडा) पर तौल बन्द हैं। सभी क्रयकेन्द्रो के किसान इसी क्रयकेन्द्र पर गन्ना डालने को मजबूर है। जिस कारण लाॅकडाउन में भी इतनी भीड हैं। मौके पर लगभग 1200 कुन्तल गन्ना तुला हुआ पडा मिला। परिवहन व्यवस्था अत्यन्त खराब पायी गयी। बताया गया कि किसानो द्वारा अपने गन्ने की तौल धर्मकांटे पर कराने के उपरान्त इस क्रयकेन्द्र पर स्थापित कांटे पर बिना तौल कराये ही चीनी मिल तौल लिपिक द्वारा मिल पर्ची बना दी जाती हैं। उदाहरणार्थ मिल पर्ची सं. 866104473 ग्रास वजन 26.70 व शुद्ध वजन 20.49 कुन्तल जबकि धर्मकांटे का वजन उपलब्ध नही कराया गया। मिल तौल लिपिक द्वारा बताया गया कि अन्य क्रयकेन्द्रो के किसानों के गन्ने का वजन धर्मकांटा के वजन के आधार पर किया जाता हैं। 
जानसठ निरीक्षण के समय मिल तौल लिपिक दीपक कुमार व किसानों ने बताया कि इस क्रयकेन्द्र पर जानसठ द्वितीय एवं जानसठ तृतीय क्रयकेन्द्र का गन्ना भी आ रहा हैं, जिसे तौल किया जा रहा है। मौके पर लगभग 1100 कु. गन्ना उठान हेतु मिला। ट्रांसपोर्ट व्यवस्था खराब पायी गयी। पाया गया कि कांटे पर मिल द्वारा लगभग 4 प्रतिशत की घटतौली की जा रही हैं।
जानसठ द्वितीय निरीक्षण के समय मौके पर गन्ने से भरी या खाली कोई गाडी उपलब्ध न होने के बैलेंश के कांटे पर चढाया तो गाडी का वजन कांटे पर 16.55 कु. आया। इसी गाडी के साथ 05 कु. के मानक बांट डलवाने पर कांटे ने वजन 21.55 कु. दर्शाया। कांटा जांच रजिस्टर अवलोकित कर सतिथि हस्ताक्षर किया। लगभग 400 कुन्तल गन्ना उठान हेतु पडा हैं। परिवहन व्यवस्था खराब पायी गयी।
29 मई को सिसौली जोन से सम्बन्धित ग्रामो के किसानों द्वारा शिकायत की गई कि उनके क्रयकेन्द्रो पर आज गन्ना तौल नही की जा रही है। चीनी मिल द्वारा क्रयकेन्द्रों पर पर एडवान्स गन्ना तौल के कारण नियमित रूप से इण्डेण्ट का निर्गमन व तौल कार्य नही होता हैं।  चीनी मिल खतौली द्वारा संचालित गन्ना क्रयकेन्द्रो पर एडवांस गन्ना खरीद किये जाने, गन्ना समितियों को नियमित रूप से इण्डेण्ट न दिये जाने और बाह्य गन्ना क्रयकेन्द्रों को प्रतिदिन संचालित न किये जाने के कारण ऐसे किसान जिन्हे समिति पर्चियों पर अपने गन्ने की नियमानुसार तौल करानी हैं, उन्हे तौल से वंचित होना पड़ रहा था। साथ ही चीनी मिल द्वारा गन्ना क्रयकेन्द्रों को बिना नोटिस के बन्द कर किसानों को दूसरे क्रयकेन्द्रों पर गन्ना तौल हेतु मजबूर किया जा रहा था। इसी क्रम में चीनी मिल खतौली द्वारा जानसठ प्रथम क्रयकेन्द्र पर घटतौली कर गन्ना किसानों के साथ धोखाधडी कर उन्हें आर्थिक क्षति पहूंचाई जा रही थी। चीनी मिल खतौली के उपरोक्त कृत्य के लिए सहकारी गन्ना विकास समिति लि. खतौली के प्रभारी सचिव महिपाल सिंह द्वारा थाना कोतवाली खतौली में अध्यासी/उपाध्यक्ष चीनी मिल खतौली डा. अशोक कुमार तथा मिल तौल लिपिक दीपक कुमार के विरूद्ध आई.पी.सी. की धारा 264, 420 एवं 120-बी के अन्तर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करायी गयी है।