आधुनिक मुखौटा


राजीव डोगरा 'विमल' शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।


कुछ यूं बदला वक्त की
सब कुछ बदलता चला गया।
जमी ये आसमा और
आसमा से जमी सब
कुछ यूं ही बदलकर
बिखरता सा गया।
इस बदलते हुए वक़्त में
मैंने सोचा
शायद कोई तो मेरा होगा,
मगर आधुनिकता के नाम पर
मुखौटा पहने हुए लोगों ने
समझा दिया की,
कोई अपना नहीं होता
यहां पर
सिवाय जरूरत के।


युवा कवि लेखक कांगड़ा
भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल, ठाकुरद्वारा हिमाचल प्रदेश