पर्यावरण मित्र दिव्या कुमारी जैन का संदेश


पर्यावरण मित्र दिव्या कुमारी जैन ने अपने संदेश में कहा है कि कल 24 वे तीर्थंकर वर्तमान शासन नायक भगवान महावीर का जन्म कल्याणक/ महावीर जयंती है। उन्होंने कहा कि भगवान महावीर स्वामी की जन्म जयंती को हम लोग वर्षो से बड़े उत्साह, उमंग, जोश, सद्भाव, प्रेम, दया, परोपकार, वात्सल्य, चेतना की भावना से मनाते रहे हैं। हमारी भावना होती थी कि जगत को सत्य व अहिंसा का शुभ सन्देश देने वाले हमारे वीर की जयंती के दिन हिंसा से सम्बंधित व नशीले पेय प्रदार्थ की दुकाने बन्द रहें। हम उसके लिए प्रयास करते थे और हम सफलता भी मिलती थी। इसी प्रकार जुलूस में शर्बत, दूध, लस्सी, खाद्य प्रदार्थ का वितरण भी होता था, जिसको खाने व पीने के बाद हम डिस्पोजल को खुले में फेंक देते थे, जिससे जीव हिंसा के साथ गन्दगी भी होती थी। अधिकतर इसका विरोध भी करते थे। 
पर्यावरण मित्र ने कहा है कि अभी वर्तमान में कोरोना  वायरस का प्रकोप न केवल भारत बल्कि पूरे विश्व मे फेला हुआ है। 
 हमारे cm व pm  इस विषय मे भारत को इस जानलेवा वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए लगे हुए है। सफल भी हुए है। देश में 14 अप्रेल तक लोक डाउन है। ऐसे में हम भगवान महावीर की जयंती का भव्य जुलूस नही निकाल पायेंगे, प्रभावना भी नही होगी। हमारे साधु संतों ने भी इसके लिए मना किया है, क्योंकि हम देश के साथ हैं। देश है तो हम हैं। 
उन्होंने कहा कि भाइयों, माताओं, बहनों! भले हम जुलूस नही निकाल पा रहे, लेकिन इतिसास में यह पहली बार हो रहा है कि हमे अशुध्द खाद्य व पेय पदार्थो की दुकाने बन्द नही करानी पड़ रही। वे स्वतः ही बन्द है ना केवल भारत मे बल्कि विश्व भर में। उन्होंने कहा कि इस बार की महावीर जयंती को विशेष उत्साह व उमंग से मनाए क्योकि - 
1 मांस की दुकान स्वतः बन्द 
2 शराब की दुकान स्वतः बन्द 
3 बाहर का खाना बंद 
4 छोटे छोटे जीवो की हिंसा बन्द
5 दिखावा बन्द
6 पहली बार घर का बना भोजन पूरी शुध्दता के साथ परिवार के साथ खाने को मिलेगा । 
7 पहली बार हम tv पर मुनिराजों के श्री मुख से साक्षात भगवान के विषय मे सुनेंगे व जानेंगे। और भी कही फायदे इस बार की महावीर जयंती के हैं । बस पोजेटिव रहने की जरूरत है । 
दिव्या कुमारी जैन ने अपने संदेश में कहा है कि घरों में ही रहकर दीपक लगावे, रोशनी करे, पूजा पाठ करे, स्वाध्याय करे, मन पसन्द भोजन बनाकर खांवे और भगवान महावीर से प्रार्थना करें कि यह महामारी यह वायरस ना केवल भारत बल्कि पूरे विश्व से खत्म हो सब सुखी व प्रसन्न रहें, किसी को कोई तकलीफ ना हो, मेरे देश मे अमन व शांति हो। देश पुनः सोने की चिड़िया बने। सबके चेहरे पर प्रसन्नता व मुस्कराहट हो। हमारी भावना व सच्चे मन से की गई प्रार्थना हमारे महावीर अवश्य सुनेंगे।पोजेटिव सोच बने। आने वाले पर्व व त्योहार में ऐसे किसी प्रकोप व बीमारी का सामना ना करना पड़े। 
      मेरा मंगल, तेरा मंगल, सबका मंगल होए रे, सबका मंगल होय रे 
 इन्ही भावनाओं के साथ आप सबको भगवान महावीर की जन्म जयंती की बहुत बहुत शुभ कामनाएं। आने वाले त्योहार , जयन्तिया व अगली महावीर जयंती उत्साह, उमंग, जोश, के साथ मनावे इसी भावना के साथ सबको जय जिनेन्द्र ।