सामाजिक संगठनों से अपील व अनुरोध

शि.वा.ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड बेरोजगार संगठन के बेरोजगार युवा, हाल ही में संपन्न हुई वन आरक्षी परीक्षा में हुए भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद एवम् धांधली के खिलाफ आंदोलनरत हैं। युवा आंदोलनकारी भाई बॉबी पंवार, भाई पीसी पंत, बहिन सरिता ने धरना स्थल पर आमरण अनशन प्रारंभ किया था। भारी पुलिस बल और धक्का-मुक्की के बीच इन अनशनकारियों को पुलिस ने उठा लिया। भाई बॉबी पंवार और भाई पीसी पंत, दोनों को कोरोनेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया। दोनों आंदोलनकारियों ने  अनशन जारी रखने का आह्वान किया, जिस पर गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान के प्रमुख रणनीतिकार मनोज ध्यानी और अन्ना हजारे संगठन के भोपाल सिंह चौधरी ने उनसे विमर्श कर अनुरोध किया कि वह जूस और जल ग्रहण करना स्वीकार करें। दोनों अनशनकारियों ने हमारे द्वारा प्रदत्त सलाह का सम्मान किया और जूस - जल ग्रहण कर अपने अनशन को त्यागा। आंदोलन की रणनीति ही दो कदम बढ़ना एक कदम ठहरना होता है। प्राथमिक उपचार उपरांत भाई बॉबी पंवार वापस बेरोजगार आंदोलनकारियों के बीच नेतृत्व करने पहुंच गए हैं और पीसी पंत अपने गृह जनपद को लौट गए हैं। उत्तराखंड बेरोजगार संगठन की स्पष्ट सी मांग है कि वन आरक्षी परीक्षा रद्द हो; वन आरक्षी परीक्षा में भ्रष्टाचार करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई हो और वन आरक्षी परीक्षा को तुरंत पारदर्शी तरीके से दोबारा संपादित कर बेरोजगार युवाओं को रोजगार देना सुनिश्चित किया जाए।

गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान और अन्ना हजारे संगठन ने आज संयुक्त रूप से निर्णय लिया है कि उत्तराखंड के सर्व सामाजिक संगठनों से अपील व अनुरोध किया जाए कि आज 8 मार्च से उत्तराखंड बेरोजगार संगठन की मांग के समर्थन में सभी सामाजिक संगठन मिलकर मैदान में आएं। बेरोजगार युवाओं की मांग दलाली, भ्रष्टाचार व भाई -भतीजावाद के खिलाफ एक बड़ी आवाज है। हम दोनों संगठन  उत्तराखंड बेरोजगार संगठन की मांग के समर्थन में आज एक दिवसीय धरना एवं उपवास रखेंगे।