मिशन प्रेरणा के तहत मण्डलीय गोष्ठी आयोजित, आपसी समन्वय का आहवान


शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। मण्डलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) पीएन सिंह के तत्वाधान में मिशन प्रेरणा अन्तर्गत इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित मण्डलीय गोष्ठी की अध्यक्षता मण्डलायुक्त मुकेश कुमार मेश्राम ने की। महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने सभी अफसरों का आहवान किया कि चूंकि लखनऊ प्रदेश की राजधानी हैं, इसलिए यह अपेक्षित है कि लखनऊ प्रथम प्रेरक मण्डल बने। उन्होंने प्रेरणा के लक्ष्य को हासिल करने हेतु खण्ड शिक्षा अधिकारियों तथा खण्ड विकास अधिकारियों के आपसी समन्वय पर भी जोर दिया। मण्डलीय गोष्ठी में अपर राज्य परियोजना निदेशक समग्र शिक्षा सोबरन सिह सहित लखनऊ मण्डल के समस्त जनपदों के मुख्य विकास अधिकारियों, डॉयट प्राचार्यों, शिक्षक स्टॉफ, जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लेखाधिकारी (बेसिक एवं समग्र शिक्षा), खण्ड विकास अधिकारी, एडीओ पंचायत, खण्ड शिक्षा अधिकारी, एसआरपी, एआरपी, सभी यूनिट के जिला समन्वयकों ने भी प्रतिभाग किया।



मण्डलीय गोष्ठी में हरदोई की सीडीओ निधि वत्स ने सर्वप्रथम अपने जनपद का प्रस्तुतिकरण किया। उन्होंने जनपद के आगामी बेहतर प्रदर्शन का आहवान करते हुए मण्डल का प्रथम प्रेरक जनपद बनने की बात कही। सीडीओ खीरी अरविन्द सिंह ने विद्यालयों में कायाकल्प अन्तर्गत सौंदर्याकरण, शैक्षिक गुणवत्ता तथा बेहतर लर्निंग आउटकम के साथ ही गुणवत्तापरक शिक्षा पर प्रस्तुतिकरण दिया। लखनऊ के सीडीओ मनीष बॅसल ने भी अच्छे विद्यालयों तथा लर्निंग आउटकम का प्रस्तुतिकरण करते हुए भविष्य में और अधिक बेहतर परफारमेंस देने का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि अभिनव प्रयास में खेलो लखनऊ कार्यक्रम का आयोजन भी जनपद लखनऊ में कराया जा रहा है।



रायबरेली के सीडीओ  अभिषेक गोयल ने बेटियों के सर्वागीण विकास पर जोर देते हुए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को सफल बनाने हेतु बालिकाओं के विशेष खेल प्रतियोगिताओं के आयोजन पर जोर दिया। उन्होंने प्रथम प्रेरक जनपद बनाने की कटिबद्धता स्पष्ट की। सीडीओ सीतापुर संदीप कुमार ने मीना मंच के माध्यम से बच्चों के शिक्षा की गुणवत्ता तथा सजगता व जनपद में कायाकल्प अन्तर्गत विद्यालयों में किये गये अच्छे कार्यों का प्रस्तुतिकरण किया गया।



उन्नाव के सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति ने शैक्षिक गुणवत्ता, कायाकल्प सम्बन्धी व बेहतर लर्निग आउटकम पर प्रस्तुतिकरण दिया। इस अवसर पर समग्र शिक्षा के महानिदेशक विजय किरन आनंद ने आहवान किया गया कि चूंकि लखनऊ प्रदेश की राजधानी हैं, इसलिए यह अपेक्षित है कि लखनऊ प्रथम प्रेरक मण्डल बने। उन्होंने प्रेरणा के लक्ष्य को हासिल करने हेतु खण्ड शिक्षा अधिकारियों तथा खण्ड विकास अधिकारियों के आपसी समन्वय पर भी जोर दिया।