अपर गंगनहर के ब्रिटिश कालीन पुल में आई दरार, भारी वाहनों के आवागमन पर लगी रोक, नये पुल पर आवाजाही शीघ्र


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जनपद के थाना सिखेड़ा क्षेत्र में स्थित मुख्य गंग नहर पर सैंकड़ो साल पुराने ब्रिटिश कालीन पुल में दरार पड़ने और पुल की दीवार ढहने के चलते स्थानीय ग्रामीणों एंव राहगीरों में दहशत बनी हुई है। थाना सिखेडा के प्रभारी निरीक्षक ने बताया है कि सिखेड़ा गंग नहर पुल क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण एसडीएम जानसठ के आदेशानुसार बस, ट्रक आदि भारी वाहनो का आवागमन बंद कर दिया गया है। अब मुजफ्फरनगर से मीरापुर, बिजनौर, जानसठ जाने वाले सभी वाहन वाया खतौली, जौली रोड, भोपा या भोपा गंगनहर पटरी से होकर जायेंगे।



 मामला जनपद के पानीपत-खटीमा राजमार्ग पर थाना सिखेड़ा क्षेत्र के गंगनहर पुल का है। पुल का आधा हिस्सा ढह चुका है। इसकी साइडों की दीवारे भी गंग नहर में समा चुकी हैं। पुल की स्थिति कुछ ऐसी है कि मानों यह पुल कभी भी गंग नहर में समा सकता है। सुरक्षा की दृष्टि से हालांकि भारी वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी है, लेकिन हल्के वाहनों को पुलिस बारी बारी से पास करा रही है। भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगने से खतौली नगर और गंगनहर कांवड़ पटरी मार्ग पर वाहनों का दबाव बढ़ गया है।



इसी पुल के बराबर में नये पुल के निर्माण में काफी समय से लगे राज्य सेतु निगम के कर्मचारियों की मानें तो पुल का निर्माणकार्य लगभग पूरा हो चुका है और दस से पन्द्रह दिनों में नये पुल को चालू कर दिया जायेगा।