जनपद स्तरीय अनुश्रण, मूल्यांकन एवं समीक्षा समिति की बैठक आयोजित

गौरव सिंघल, सहारनपुर। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जनपद में संचालित गोआश्रय स्थलों, वृहद गोसंरक्षण केन्द्रों, कान्हा उपवन की समस्त व्यवस्थाएं सुचारू रूप से सम्पन्न कराये जाने हेतु अस्थायी गोवंश आश्रय स्थलों की स्थापना क्रियान्वयन व प्रबंधन के अनुश्रवणार्थ जनपद स्तरीय अनुश्रण, मूल्यांकन एवं समीक्षा समिति की बैठक आहूत की गयी।

बैठक में जिलाधिकारी ने खंड विकास अधिकारियों को अपने-अपने ब्लाकों में निराश्रित गोवंश आश्रय स्थलों का रात्रि में भी निरीक्षण करने के निर्देश दिए। गोआश्रय स्थलों में पशुओं के लिए चारा, पानी, शेड, बिजली एवं भूसे की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। सुनिश्चित किया जाए कि जनपद में कहीं पर भी चारागाह की जमीन पर अवैध कब्जा न हो। गोआश्रय स्थलों पर सुरक्षा के लिए तैनात संरक्षकों का मानदेय समय से दिया जाए। संरक्षित पशुओं की चिकित्सा व्यवस्था में किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। गौवंश को ठण्ड से बचाव के लिए गोशालाओं में पर्याप्त इंतजाम रखें जाएं। 31 मार्च तक कोई भी गोवंश निराश्रित न रहे।
डीएम ने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि जनपद में ग्राम स्तर पर प्रत्येक घर जाकर गोवंश की गणना की जाए। जिससे निराश्रित गोवंश संबंधी किसी भी समस्या का आसानी से निस्तारण हो सके। गणना में पशुपालन विभाग ग्राम सचिव एवं लेखपालों का भी सहयोग लें। सहभागिता योजना के अन्तर्गत सुपुर्द किये गये गोवंशों का सत्यापन कर भरण पोषण के लिए निश्चित धनराशि शीघ्र दी जाए। गोवंश से संबंधित समस्या के निस्तारण के लिए जनप्रतिनिधियों से भी समन्वय स्थापित किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में नदी किनारे किये गये अतिक्रमण को हटाते हुए गोआश्रय स्थल बनाने के संबंध में भी विचार किया गया। ईयर टैंगिग शत-प्रतिशत सुनिश्चित करने के साथ ही मृत गोवंश पशुओं का उचित निस्तारण करने के निर्देश दिये। 

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने अवगत कराया कि मुख्यमंत्री निराश्रित एवं बेसहारा गोवंश सुपुर्दगी के अन्तर्गत जनपद में वर्तमान में 696 पशुपालकों को 1030 गोवंश सुपुर्द किये गये है। गोवंशों के भरण पोषण के लिए पशुपालकों को 609.16 लाख रूपये की धनराशि दी जा चुकी है। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी  विजय कुमार, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डाॅ0 अर्चना द्विवेदी, सिटी मजिस्ट्रेट अनिरूद्ध प्रताप सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ0 राजीव कुमार सक्सेना, ज्वाईंट मजिस्ट्रेट राम्या आर0, उपजिलाधिकारी रामपुर मनिहारान संगीता राघव, उपजिलाधिकारी देवबन्द संजीव कुमार तथा संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।