सम्पूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त 45 शिकायतों में से 03 मौके पर ही निस्तारित

गौरव सिंघल, सहारनपुर। सम्पूर्ण समाधान दिवस पर तहसील सदर में राजस्व विभाग की 17, पुलिस विभाग की 09, विद्युत विभाग की 02, विकास विभाग की 05 एवं अन्य विभागों की 12 कुल 45 शिकायतें प्राप्त हुई जिनमें से 03 शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने तहसील सदर में शिकायतकर्ताओं की समस्याओं को सुनने के बाद अधिकारियों को निर्देश दिए कि सम्पूर्ण समाधान दिवस पर भूमि सम्बंधी विवादों के निस्तारण के लिए राजस्व और पुलिस विभाग की संयुक्त टीम गठित कर शिकायत का निस्तारण कराया जाए। 

जिलाधिकारी ने कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त शिकायतों का समयबद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण तरीके से निस्तारण किया जाए। यह भी अवगत कराना है कि  मुख्यमंत्री के प्राथमिकता वाले कार्य जनसुनवाई, आईजीआरएस में जनपद को पूरे प्रदेश में 06वीं रैंक प्राप्त हुई। जिसमें माह दिसम्बर 2022 में जनपद में कुल 4444 शिकायतें विभिन्न माध्यमों जैसे मुख्यमंत्री हेल्पलाईन 1076, तहसील दिवस, माननीय प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के कार्यालय से जनपद में प्राप्त हुई। समस्त शिकायतों का निस्तारण निर्धारित समयावधि के अन्तर्गत किया गया। शिकायतकर्ता से प्राप्त फीडबैक की श्रेणी में भी जनपद को शत-प्रतिशत नम्बर प्राप्त हुए। जिलाधिकारी द्वारा प्रतिदिन 10 से 12 बजे तक किये जाने वाली जनसुनवाई, जनता दर्शन में भी जनपद को लक्ष्य के सापेक्ष अधिकतम अंक प्राप्त हुए। जिलाधिकारी द्वारा प्रत्येक माह किये जाने वाले भौतिक सत्यापनों में भी जनपद  का प्रदर्शन सर्वोत्तम रहा। 

इस अवसर पर आईजीआरएस निस्तारण के संबंध में शासन द्वारा प्राप्त निर्देशों के क्रम में उन्होने कहा कि इसका डाटा लोड करते समय अंतरिम आख्या अपलोड न की जाए। शिकायत के मूल उद्देश्य का समझकर उसको निस्तारित किया जाए। सभी अधिकारियों का लक्ष्य शिकायतों का अंतिम रूप से निस्तारण होना चाहिए। उच्च स्तर से प्राप्त आईजीआरएस में लापरवाही की स्थिति में संबंधित अधिकारी के बारे में विभाग को अवगत करा दिया जायेगा तथा कोर्ट में स्टे से संबंधित शिकायतों के लिए आख्या अपलोड करते समय कोर्ट केस नम्बर, विभाग का प्रयास भी अंकित किया जाए एवं भूमि संबंधी प्रकरणों में राजस्व एवं पुलिस की संयुक्त टीम गठित कर निस्तारण करें। जंहा तक संभव हो सके इन शिकायतों के निस्तारण के लिए स्थानीय निरीक्षण आख्या के साथ आवेदक की संतुष्टि को प्राथमिकता दी जाए एवं निरन्तर उनसे फीडबैक लिया जाए। 

जिलाधिकारी ने कहा कि जन सामान्य की शिकायतों का निस्तारण यथाशीघ्र करना मुख्यमंत्री जी की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। शिकायतकर्ता को अनावश्यक परेशान करने वाले कर्मियों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। डीएम अखिलेश सिंह ने बढती ठण्ड के दृष्टिगत निर्देश दिये कि यह सुनिश्चित किया जाए कि जनपद में कहीं पर भी कोई भी व्यक्ति खुले में न सोए तथा सभी असहाय, गरीब और निराश्रितों के लिए रैन बसेरों एवं अलाव की पर्याप्त व्यवस्था में कोई कमी न रहे। उन्होंने निर्देश दिए कि गोआश्रय स्थलों में भी ठण्ड से बचाव के पर्याप्त इंतेजाम किये जाएं। 

जिलाधिकारी ने कहा कि सडक सुरक्षा माह के तहत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए निरंतर जन सामान्य को यातायात के नियमों से परिचय करवाते हुए जनजागरूकता की जाए तथा जनजागरूकता अभियान के तहत स्कूलों, कॉलेजों एवं महत्वपूर्ण चौराहों पर सभी को यातायात नियमों के पालन के लिए प्रोत्साहित किया जाए। सड़क सुरक्षा में सभी विभाग अपनी-अपनी सहभागिता सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि गुड सेमेरिटन बनकर गोल्डन ऑवर में दुर्घटना ग्रस्त व्यक्ति को चिकित्सालय पंहुचाकर अपने नैतिक कर्तव्यों का पालन करने वालों को सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली पुरूस्कार राशि से भी अवगत कराया जाए। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विपिन ताडा ने पुलिस शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण ढंग से करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि शर्दी और कोहरे के दृष्टिगत रात्रि गश्त बढाया जाए। सभी पुलिसकर्मी शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए तत्पर रहेंगे। इसके किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार, डीएफओ  गौतम राय, ज्वाईंट मजिस्ट्रेट कृति राज, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 संजीव मांगलिक, उपजिलाधिकारी सदर किंशुक श्रीवास्तव, तहसीलदार सदर विपिन द्विवेदी, क्षेत्राधिकारी सदर तथा संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।