गुमशुदगी के 22 दिन बाद चार वर्षीय बालक का शव गांव के ही गन्ने के खेत से बरामद

गौरव सिंघल, सहारनपुर। जनपद के थाना गंगोह के खानपुर गांव में अनुसूचित जाति के साढ़े तीन साल के बालक लक्ष्य का शव आज उनके घर से करीब 1200 मीटर दूर गन्ने के खेत में पड़ा मिला। सूचना मिलने पर एसएसपी डा. विपिन टाडा, एसपी ग्रामीण सूरज कुमार राय, सीओ गंगोह अभितेष सिंह और पुलिस निरीक्षक जसबीर सिंह डाग स्क्वायड और फोरेंसिक टीम के साथ मौके पर पहुंचे और उन्होंने लक्ष्य के पिता राजकुमार और अन्य परिजनों से घटना के बावत पूरी जानकारी ली।

एसएसपी ने गमजदा परिजनों को भरोसा दिया कि पुलिस जल्द ही घटना का खुलासा करेगी और जो भी इस घटना में संलिप्त पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। एसएसपी ने पत्रकारों को बताया कि दो जनवरी की शाम करीब चार बजे बालक लक्ष्य घर से बाहर खेलने के दौरान गायब हो गया था। पिता राजकुमार ने गंगोह कोतवाली में पुत्र लक्ष्य की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। उन्होने बताया कि पुलिस ने तीन जनवरी को सभी संभावित स्थान पर बालक की तलाश कराई थी और गांव में घर से थोडी दूरी पर स्थित तालाब का पानी निकलवाकर भी देखा था, कि कहीं यह बच्चा वहां ना डूब गया हो। उन्होने बताया कि लक्ष्य के पिता राजकुमार फर्नीचर आदि बनाने का मिस्त्री है। 

उन्होने बताया कि पुलिस ने जब बालक के परिजनों से पूछा कि क्या उन्हें किसी पर इस घटना में शामिल होने का संदेह है तो लक्ष्य की मां ने कहा कि हमें किसी पर कोई भी संदेह नहीं है। पुलिस खुद ही घटना का खुलासा कर आरोपियों की गिरफ्तारी करे। बालक की गर्दन पर चारपाई बुनने की प्लास्टिक की रस्सी बंधी हुई मिली। शव को देखने से प्रतीत होता था कि उसे 24 घंटे के भीतर ही यहां खेत में डाला गया है। वजह शव पूरी तरह से सुरक्षित था। एसएसपी ने बताया कि लक्ष्य के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। उन्होने बताया कि हत्या का सही कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सामने आ सकता है। गुमशुदगी के दौरान परिजनों को फिरौती आदि का कोई फोन अथवा पत्र संदेश भी नहीं आया, ऐसे में यही लगता है कि किसी ने रंजिशन लक्ष्य को अगवा कर उसकी हत्या की है।