नियमित टीकाकरण पखवाड़ा नौ से 20 जनवरी तक, शून्य से पांच साल तक के बच्चों का किया जाएगा टीकाकरण

शि.वा.ब्यूरो, शामली। जनपद में नौ जनवरी से 20 जनवरी तक नियमित टीकाकरण पखवाड़ा चलाया जाएगा, जिसमें किसी भी कारणवश टीकाकरण से छूटे शून्य से पांच साल तक के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। इसके लिए आगंनबाड़ी, आशा-एएनएम और सुपरवाइजर को जिम्मेदारी दी गई है और निर्देशित किया गया है कि शत प्रतिशत टीकाकरण हो और कोई भी बच्चा टीकाकरण से वंचित न रहे।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संजय अग्रवाल ने बताया कि शिशुओं का नियमित टीकाकरण बेहद जरुरी है, इसके लिए विभाग प्रयास कर रहा है। उन्होंने बताया कि इसके लिए पखवाड़ा चलाकर टीकाकरण से छूटे बच्चों को वैक्सीन लगाई जाएगी, ताकि शिशु का ससमय नियमित टीकाकरण सुनिश्चित हो सके और शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके। उन्होंने बताया कि बचपन में होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए सबसे बेहतर उपाय टीकाकरण है, इससे धन, ऊर्जा एवं जीवन की बचत होती है तथा शिशु मृत्यु दर में कमी लाने में काफी सहायक होता है। उन्होंने बताया कि टीकाकरण के दौरान लगने वाली वैक्सीन शरीर को रोग से लड़ने की क्षमता को बढ़ाती है। उन्होंने बताया कि इसके लिए आशा, एएनएम व आगंनबाड़ी घर-घर जाकर शिशु के टीकाकरण के लिए प्रेरित करेंगी और टीकाकरण से फायदे के बारे में अवगत कराएंगी।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. राजकुमार सागर ने बताया कि जनपद में नौ जनवरी से 20 जनवरी तक 556 सत्रों में नियमित टीकाकरण पखवाड़ा चलाया जाएगा, जो शून्य से पांच साल तक के बच्चे किसी भी कारण वश टीकाकरण से छूट गए हैं, उनका शत-प्रतिशत टीकाकऱण कराया जाना विभाग का लक्ष्य है। उन्होंने बताया कि 3662 बच्चों को पेंटा 1, 3094 बच्चों को पेंटा 2, 2922 बच्चों को पेंटा 3, 3550 बच्चों को एमआर -1 और 4053 बच्चों को एमआर -2 वैक्सीन लगाई जानी है। उन्होंने बताया कि नौ जनवरी से चलने वाले इस टीकाकरण पखवाड़ा में 134 एएनएम, 851 आशा कार्यकर्ता, 707 आगंनबाड़ी कार्यकर्ता और 66 सुपवाइजर को जिम्मेदारी दी गई, जो घर-घर जाकर बच्चों के टीकाकरण के लिए प्रेरित करेंगी और टीकाकरण केंद्र पर लाकर टीकाकरण करवाना सुनिश्चित करेंगी।