रालोद के पूर्व जिलाध्यक्ष अजीत राठी ने भाजपा पर लगाये गम्भीर आरोप केन्द्रीय व राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारियों को पत्र लिखा

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। राष्ट्रीय लोकदल के पूर्व जिलाध्यक्ष अजीत राठी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा क्षेत्र 15 खतौली में हो रहे उपचुनाव को निष्पक्ष एवं पारदर्शी बनाने के संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव आयुक्त, केंद्रीय निर्वाचन आयोग, केंद्रीय चुनाव पर्यवेक्षक, जिला निर्वाचन अधिकारी सहित रिटर्निंग ऑफिसर को पत्र लिखकर भाजपा नेताओं पर पुलिस-प्रशासन को दबाव में लेकर मुस्लिम बाहुल्य पोलिंग बूथों पर मतदान प्रतिशत कम कराने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया है। 

रालोद के जिलाध्यक्ष ने अपने पत्र में कहा है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा क्षेत्र 15- खतौली में हो रहे उपचुनाव का मतदान 5 दिसंबर 2022 को होना है, लेकिन खतौली क्षेत्र के मुस्लिम मतदाता पूरी तरह खौफ के साये में हैं। उन्होंने कहा है कि विधानसभा क्षेत्र खतौली में आम चर्चा है कि भारतीय जनता पार्टी के दबाव में मतदान प्रभावित हो सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि जिन बूथों पर मुस्लिम समुदाय के मतदाता अधिक संख्या में हैं, मतदान के दिन उन बूथों पर चुनाव में षड्यंत्र के तहत निम्न तरह के व्यवधान उत्पन्न किये की पूरी संभावना है। 

रालोद के पूर्व जिलाध्यक्ष अजीत राठी ने आरोप लगाया है कि मुस्लिम बाहुल्य पोलिंग बूथों पर मतदान को धीमा करने हेतु षड्यंत्र के तहत खराब ईवीएम मशीनों को लगाया जा सकता है। उन्होंने अपने पत्र में कहा है कि खतौली व जानसठ शहर स्थित मुस्लिम बाहुल्य बूथों पर वह मुस्लिम बहुल गांवों में मतदाताओं में खौफ पैदा करके भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता  मतदान प्रतिशत कम कराने के लिए षड्यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में षड्यंत्र के तहत वोटर स्लिप नहीं बांटे जाने की पूर्ण आशंका है। उन्होंने कहा है कि भाजपा के लोग मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में वोटर स्लिप न बांटने के लिए बीएलओ को प्रलोभन दे रहे हैं और दबाव भी बना रहे हैं।

अजीत राठी ने आरोप लगाया कि खतौली विधानसभा क्षेत्र और खासतौर पर खतौली शहर के अंदर भाजपा प्रत्याशी के समर्थन और प्रचार में घूम रही गाड़ियां सरेआम सड़कों पर हूटर और शायरन बजाकर चुनाव आयोग कि आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन कर रहे हैं। उन्होंने अंदेशा जताया कि भाजपा अपने कार्यकर्ताओं से एक साजिश के तहत मुस्लिम बूथों पर झगड़ा करवा कर मतदान में व्यवधान पैदा कर सकती है। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोगों द्वारा ग्राम पंचायत पदाधिकारियों को डरा धमकाकर भाजपा के पक्ष में मतदान कराने के लिए बाध्य किया जा रहा है।

उन्होंने अपने पत्र में अनुरोध किया है कि बिंदुवार शिकायत का गंभीरता से संज्ञान लेते हुए उचित कार्यवाही की जाये। उन्होंने अपने पत्र की प्रतिलिपि जिला जज, उच्च न्यायालय इलाहाबाद के मुख्य न्यायाधीश सहित उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को भी प्रेषित की हैं।