रबी कृषि निवेश मेला एवं किसान गोष्ठी आयोजित

गौरव सिंघल, सहारनपुर। कृषि सूचना तंत्र के सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता के अन्तर्गत कृषि विभाग की ओर से रबी कृषि निवेश मेला एवं किसान गोष्ठी का आयोजन साधन सहकारी समिति, ग्राम कोटा विकासखण्ड बलियाखेडी में किया गया। उप कृषि निदेशक डॉ0 राकेश कुमार द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को फसल अवशेष प्रबंधन, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। 

उप कृषि निदेशक, कृषि रक्षा पवन कुमार विश्वकर्मा द्वारा बताया गया कि कृषि विभाग गौ आधारित प्राकृतिक खेती, जैविक खेती को बढावा दे रहा है जिसमें किसान अपने घर में उपलब्ध अपशिष्ट पदार्थो जैसे गाय का गोबर/मूत्र, वनस्पति आदि की सहायता से जैविक कीटनाशक/जैविक फफूंदीनाशक तैयार कर अपनी खेती को कीट व बीमारियों से बचा सकते है एवं इसके द्वारा स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कीटनाशी/फफूंदीनाशी से बचा जा सकता है। वरिष्ठ वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ. विरेन्द्र कुमार द्वारा बताया गया कि गेंहू की अगेती व पछेती प्रजातियों पोषण-प्रबंधन, सिंचाई-प्रबंधन, खरपतवार नियंत्रण की विस्तृत जानकारी एवं रबी में दलहनी फसलों की वैज्ञानिक खेती की विस्तृत जानकारी दी गयी। 

भूपेन्द्र मलिक विषय वस्तु विशेषज्ञ द्वारा कृषि विभाग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की विस्तार से जानकारी देते हुए कृषि यंत्रों/कस्टम हायरिंग सेन्टर पर अनुदान कैसे प्राप्त करें कृषकों को समझाया। अशोक मलिक विषय वस्तु विशेषज्ञ द्वारा सभी फसलों की पंक्तियों में बुवाई पर जोर दिया गया। श्री योगेन्द्र शर्मा पूर्व सहायक विकास अधिकारी, कृषि द्वारा मृदा नमूना लेने व मृदा परीक्षण की जानकारी कृषकों को दी गयी। गोष्ठी में आये प्रगतिशील कृषक अनिल त्यागी ग्राम बडौली द्वारा कृषकों को पशुओं के मूत्र व गोबर का उचित प्रबंध कर भूमि की उर्वरा शक्ति को कैसे बढाया जा सकता है विस्तार से जानकारी दी गयी। गोष्ठी का संचालन श्री बिजेन्द्र कुमार विषय वस्तु विशेषज्ञ द्वारा किया गया। 

संदीप कुमार द्वारा गोष्ठी में उपस्थित सभी का आभार व्यक्त करते हुए गोष्ठी का समापन किया गया। कार्यक्रम में विषय वस्तु विशेषज्ञ भूपेन्द्र मलिक, अशोक मलिक, बिजेन्द्र कुमार, संदीप कुमार टी0ए0सी0, जबर सिंह टी0ए0सी0, मुकेश कुमार, भवंर सिंह, अमित कुमार, महक सिंह, सुरेन्द्र कुमार टी0ए0सी0, अनिल कुमार ए0टी0एम0, विपिन कुमार बी0टी0एम0, सतीश कुमार पी0पी0एस0 व दीपक खण्डूरी वरिष्ठ सहायक, योगेन्द्र शर्मा पूर्व सहायक विकास अधिकारी कृषि सहित लगभग 180 कृषक उपस्थित रहे।