देवबंद-रूडकी रेलवे लाइन का निर्माण तेज

गौरव सिंघल, सहारनपुर। रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव के देवबंद रेलवे स्टेशन के निरीक्षण के बाद देवबंद से रूडकी के बीच नई रेल लाइन परियोजना पर काम की गति बढ़ गई है। 27.45 किलोमीटर लंबी इस रेल लाइन पर 700 करोड़ रूपए की लागत आएगी। हालांकि यह परियोजना 2021 तक पूरी हो जानी थी लेकिन कोरोना संकट और भूमि अधिग्रहण में विलंब होने से परियोजना में विलंब हो गया। 

सिटी मजिस्ट्रेट अनिरूद्ध प्रताप सिंह ने आज बताया कि भूमि अधिग्रहण का कार्य पूरा हो गया है और 90 फीसद किसानों को मुआवजा भी दे दिया गया है। इस रेल लाइन के पूरे हो जाने से दिल्ली से रूडकी तक की दूरी 33 किलोमीटर तक कम हो जाएगी। अभी ट्रेने रूडकी को वाया टपरी होकर जाती हैं। जिले सहारनपुर में 14 गांवों से 17 किलोमीटर रेलवे लाइन बनेगी। इन गांवों के 919 किसानों की 86.26 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित की गई है। उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में यह रेलवे लाइन 11 किलोमीटर लंबी बनेगी। वहां के 11 गांवों के किसानों की 51 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित की गई हैं।

नई रेलवे लाइन सहारनपुर के जिन 14 गांवों से होकर गुजरेगी उनमें जाटोल, मझोल जबरदस्तपुर, नियामत, बनहेड़ा खास, माझरी, साल्लापुर, राजापुर उर्फ रामपुर, दुनीचंदपुर, असदपुर करंजाली, चकरामबाड़ी, दिवालहेड़ी, देवबंद और नूरपुर शामिल हैं। देवबंद में मिट्टी डालकर आधार बनाने का काम शुरू कर दिया गया है और कासिमपुर अंडरपास का निर्माण कार्य पूरा हो गया है।