पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व भारतीय किसान यूनियन भगत सिंह वर्मा ने की गन्ने का लाभकारी रेट 600/- कुंतल करने की मांग

गौरव सिंघल, देवबंद। गन्ना समिति देवबंद में पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व भारतीय किसान यूनियन वर्मा के राष्ट्रीय संयोजक भगत सिंह वर्मा के नेतृत्व में गन्ना किसानों ने एसीडीआई एके ओझा और गन्ना सचिव प्रेमचंद चौरसिया का घेराव किया। घेराव करते हुए भारतीय किसान यूनियन वर्मा के राष्ट्रीय संयोजक भगत सिंह वर्मा ने कहा कि गन्ना किसानों की बढ़ोतरी की रस्सी दो को तत्काल सट्टे में लगाकर गन्ना किसानों की पर्चियां जारी की जाए। गन्ना सचिव के असमर्थता जताने पर भगत सिंह वर्मा ने जिला गन्ना अधिकारी सहारनपुर से फोन पर बात की जिस पर उन्होंने तत्काल अप्रूवल देकर रस्सी दो को सट्टे में लगाने की बात कही। भगत सिंह वर्मा ने एसीडीआई गन्ना सचिव जिला गन्ना अधिकारी को गन्ना कांटो में हो रही घटतौली को तुरंत रोकने चीनी मिलों से पिछले वर्ष का व इस वर्ष का गन्ना भुगतान तुरंत दिलाने, पिछले वर्षों में देरी से किए गए गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज का भुगतान तुरंत दिलाने और गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंतल घोषित करने को कहा।

भगत सिंह वर्मा ने कहा कि गन्ना किसानों के साथ लखनऊ में बैठकर गन्ना आयुक्त संजय भूषर रेड्डी द्वारा परेशान किए जा रहे प्रदेश के किसानों को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भगत सिंह वर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, गन्ना मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी से गन्ना किसानों की समस्याओं को देखते हुए गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंतल घोषित करने की तत्काल मांग की। आज गन्ना समिति में भाजपा नेता रणवीर सिंह एडवोकेट, भाकियू नेता जोगिंदर सिंह, कालू सिंह, विकास चौधरी, अनिल त्यागी, पवन त्यागी, गुप्ता जी आदि ने भाग लिया और किसानों का शोषण तत्काल बंद करने की मांग की।