भारतीय जन महासभा के अध्यक्ष धर्म चंद्र पोद्दार ने श्रीमद्भगवद् गीता को नियमित रूप से प्राथमिक स्तर से ही अनिवार्य रूप से पढ़ाये जाने की मांग की

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय संगठन भारतीय जन महासभा के अध्यक्ष धर्म चंद्र पोद्दार केन्द्रीय कानून एवं न्याय मंत्री किरण रिजीजु से मिलने उनके कार्यालय गये थे, लेकिन उनके न मिलने पर उन्होंने एक ज्ञापन उनके कार्यालय को सौंपा। 

धर्म चंद्र पोद्दार ने बताया कि 17 अक्टूबर 2022 को सौंपे गए ज्ञापन का स्मरण पत्र देते हुए बलात्कार व हत्या जैसे जघन्य अपराध के लिए 30 दिन के भीतर मृत्युदंड दिए जाने का कानून बनवाने की मांग फिर से दोहरायी गई है। उन्होंने बताया कि ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि कठोर कानून बनाने से ही इस प्रकार के अपराध की रोकथाम संभव है। धर्म चंद्र पोद्दार ने बताया कि उन्होंने केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के कार्यालय में भी एक ज्ञापन दिया है, इसमें कहा गया है कि देश में वर्तमान समय में बलात्कार एवं हत्या की अनवरत बढ़ रही घटनाओं से सभी दुखी हैं। इसके लिए युवा पीढ़ी में आधारभूत शिक्षा के साथ-साथ संस्कार की कमी भी एक महत्वपूर्ण कारक है, इसलिए शिक्षा में ऐसे पाठ्यक्रम लागू किए जाएं, जिनसे युवाओं में एक सभ्य संस्कारित जागृति आए और जीवन में नारियों के प्रति सुसंस्कारित भावना का उदय हो सके।

ज्ञापन में यह भी मांग की गई है कि भारत के सभी विद्यालयों की पाठ्य पुस्तकों में श्रीमद्भगवद् गीता को नियमित रूप से प्राथमिक स्तर से ही अनिवार्य रूप से पढ़ाया जाए।