दीप जलाएं

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

आओ सब जन मिलकर दीप जलाएं ।
अंधेरा मिटाकर उजाला घर ले आएं ।।

आओ सब जन मिलकर रंगोली सजाएं ।
घर - आंगन में ढेरों खुशियां बिखराएं ।।

रात अमावस की काली - काली तो क्या
दीपशिखा से कोना -कोना करें प्रकाशित,
आओ सब जन मिलकर दिवाली मनाएं ।।

हृदय से झूठ, छल, कपट सब मिटाएं ।
बस प्रेम के दीपक सदा घर-घर जलाएं ।।

मन में लेकर मधुरता खूब मुस्कुराएं ।
मिटाके तिमिर, ज्योतिर्मय सब होजाएं ।।

आओ सब जन मिलकर दीप जलाएं ।
नभ - मंडल तक खुशियां बिखराएं ।‌।
ग्राम रिहावली, डाकघर तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा, उत्तर प्रदेश