बचपन को फिर नमन करें

अ कीर्ति वर्द्धन,  शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

तुम खुजाओ कमर हमारी, 
हम पूरे सारे सपन करें,
एक दूजे के हित को साधें, 
आपसदारी सघन करें।
मिल कर खाना बाँट कर खाना, 
बचपन में सीखा था,
दौर जवानी का बीता,
बचपन को फिर नमन करें।
मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश