बारिश में कमरे की छत गिरने से किशोरी की मौत, मां घायल

 

गौरव सिंघल, सहारनपुर। महानगर में बारिश के चलते शहीद गंज में कर्णवाल मार्केट के ऊपर बने जर्जर भवन के एक कमरे की छत गिरने से मलबे में दबकर 16 वर्षीय किशोरी की मौत हो गई, जबकि उसकी मां घायल हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया। अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली।  

जानकारी के अनुसार कर्णवाल मार्केट के ऊपर वाले हिस्से में एक मकान में मनोज पत्नी मोनिका और दो बेटियों राधिका और वैष्णवी के साथ रहते हैं। मनोज शहीद गंज में बाहर दुकान लगते हैं। बड़ी बेटी राधिका तो किसी कार्य से घर के बाहर चली गई थी, जबकि मनोज अपनी दुकान लगाने के लिए नीचे आ गए थे। कमरे में मनोज की पत्नी मोनिका कार्य कर रही थी, जबकि बेटी वैष्णवी सोई हुई थी। तभी अचानक कमरे की छत भरभराकर गिर गई। मोनिका कमरे के एक कोने में बैठकर कुछ काम कर रही थी, जिससे उसके पैर पर मलबा गिरा, जबकि बेड पर सो रही वैष्णवी पूरी तरह मलबे में दब गई। 
छत कड़ियों वाली थी, जिस पर ईंट, मिट्टी और अन्य सामग्री लगी होने की वजह से मलबा भारी मात्रा में था, जिसके गिरने की आवाज पूरी मार्केट में पहुंची। इसके बाद चीख पुकार सुनकर आस-पड़ोस के दुकानदार मौके पर पहुंचे। मोनिका को बाहर निकाल लिया गया, लेकिन वैष्णवी भारी मलबे में दबी थी, जिसको निकालने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। वैष्णवी के सिर में भी चोट थी और उसे बेसुध हालत में जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 
वैष्णवी रेनबो स्कूल की कक्षा दस की छात्रा थी। वैष्णवी की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। सूचना मिलते ही सिटी मजिस्ट्रेट एपी सिंह, सीओ प्रथम अजेंद्र यादव, नगर कोतवाली प्रभारी नीरज सिंह और नगर निगम की टीम पहुंची थी। उन्होंने परिजनों से बात कर घटना की जानकारी ली। जिस भवन के कमरे की छत गिरी है। उस भवन में दो और परिवार रहते हैं और पूरा भवन जर्जर है, जिसकी छत कड़ियों की है। जिस मकान में दो परिवार रहते हैं उनके प्रवेश द्वार पर बने कमरे की छत भी काफी पहले की गिरी हुई है, जिसकी कड़ियां आज तक उसी कक्ष में रखी हुई हैं। पूरे भवन में जगह-जगह दरारें हैं। कई जगह से कड़ियां गलकर नीचे की ओर सरकी हुई हैं। भवन में रह रहे परिवारों और नीचे मार्केट के दुकानदारों की जान को भी अभी खतरा है। वैष्णवी की मौत के बाद अन्य दोनों परिवारजनों में भी भय पैदा हो गया है। प्रशासन ने फोटोग्राफी कराई है। प्रशासन पीड़ित परिवार को शासन द्वारा निर्धारित 95100 रुपये देवीय आपदा राहत कोष से देगा। तहसीलदार सदर विपिन द्विवेदी ने बताया कि फोटोग्राफी करा ली गई है।