कुख्यात् होता जा रहा कस्बे का एक सीबीएसई स्कूल
शि.वा.ब्यूरो, खतौली। कस्बे का एक सीबीएसई स्कूल आजकल सरकारी नियमों को जूते की नोक पर रखने के मामले में कुख्यात् होता जा रहा है। नियमों की अनदेखी करके स्कूल की बिल्ड़िंग बनाने का मामला हो, स्कूल में कार्यरत शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक कर्मचारियों के शोषण का मामला हो या स्कूल के बाहर सड़क के किनारे खड़े हरे पेड़ों को खुर्द-बुर्द करने का मामला हो, सभी में उक्त स्कूल नम्बर वन है। बता दें कि नगर का एक सीबीएसई मान्यता के तहत संचालित एक स्कूल पर आरोप है कि उसने ग्रीन जोन में सरकारी नियम-कायदों के खिलाफ बिल्ड़िंग का निर्माण कर लिया है। इतना ही नहीं स्कूल के खिलाफ आरोप है कि उसने स्कूल बिल्डिंग के सामने सड़क के किनारे खड़े कुछ यूकेलिप्टिस के हरे पेड़ों को खुदबुर्द करके वहां अपने स्कूल वाहन खड़े करने का अघोषित पार्किंग भी बना लिया है।
अपना नाम प्रकाशित नहीं करने की शर्त पर उक्त स्कूल के एक शैक्षणिक कर्मचारी ने बताया कि स्कूल प्रबन्धन ने अपने कर्मचारियों के खाते अपनी सुविधानुसार बैंकों में खुलवा रखे हैं। उनका आरोप है कि कुछ कर्मचारियों के खाते तो स्कूल प्रबन्धन ने नगर के बाहर के बैंक में खुलवा रखे हैं, जिनमें प्रत्येक कर्मचारी का वेतन सरकारी नियमों के अनुसार भुगतान दिखा दी जाती है, जबकि सम्बन्धित कर्मचारियों से पूर्व में ब्लैंक चैक हस्ताक्षर कराकर ले रखे हैं। उक्त चैक के द्वारा स्कूल प्रबन्धन द्वारा लगभग पूरी राशि निकाल ली जाती है। उसके बाद कर्मचारियों को मनमाने तरीके से नकद वेतन का भुगतान किया जा रहा है। अपने इस गोरखधंधे में उक्त स्कूल ने सम्बन्धित बैंक को भी शामिल कर रखा है। जानकारों के अनुसार अगर उक्त स्कूल के कारनामों का जांच करायी जाये तो अन्य कई गोरखधंधे भी प्रकाश में आ सकते हैं।