कोविड की जंग में विशेषज्ञ चिकित्सकों को जोड़ने की नई पहल

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। कोविड-19 के खिलाफ चल रही जंग में अब प्रदेश सरकार द्वारा हर जिले में विशेषज्ञ चिकित्सकों की मदद लेने की अनूठी योजना शुरू की गयी है । योजना से जुड़ने के इच्छुक विशेषज्ञ चिकित्सकों के लिए स्वास्थ्य विभाग ने 18 अगस्त से पंजीकरण शुरू कर दिया है, जल्दी ही इनकी सूची हर जिले को मिल जायेगी ताकि जरूरत के मुताबिक़ कोरोना के खिलाफ जंग में इन विशेषज्ञों की मदद ली जा सके ।

​योजना से जुड़ने वाले विशेषज्ञ चिकित्सकों को 15 दिनों के सेवा योगदान के लिए 75,000 रूपये का मानदेय दिया जाएगा । प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत बीमा योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा । ड्यूटी के दौरान चिकित्सक को पीपीई किट और अन्य जरूरी उपकरण भी उपलब्ध कराये जायेंगे । एक्टिव क्वारंटीन में रहने और भोजन की व्यवस्था भी स्वास्थ्य विभाग करेगा ।  इसके अलावा सेवा के सम्मान में प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया जाएगा । विशेषज्ञ चिकित्सकों की श्रेणी में एनेस्थेटिस्ट, कार्डियोलाजिस्ट, नेफ्रोलाजिस्ट, चेस्ट फिजिशियन, गायनेकोलाजिस्ट और पीडियाट्रिसियन से ही आवेदन मांगे गए हैं । योजना के बारे में अधिक जानकारी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है । इसके अलावा योजना से जुड़ने के लिए विशेषज्ञ चिकित्सक अपने जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी के ई-मेल आईडी पर आवेदन कर सकते हैं । 

​इस सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद का कहना है कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए एहतियात के तौर पर यह योजना लायी गयी है ताकि किसी भी आपात स्थिति में स्वास्थ्य विभाग को विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी का सामना न करना पड़े । इसका लाभ उन जिलों को भी निश्चित रूप से मिलेगा जहाँ पर कोरोना के इलाज में विशेषज्ञ चिकित्सकों की किसी तरह की कमी का सामना करना पड रहा है ।