आदत है अब


राजीव डोगरा 'विमल', शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।


दर्द लिखने की आदत है अब
क्योंकि दर्द को
सहने की आदत हैं अब।
टूटकर बिखरा हूँ बहुत
मगर फिर भी
जीने की आदत है अब।
बहुत समझाया है सब को
मगर अब खुद को
समझाकर चुपचाप
बैठने की आदत है अब।
अपनों को गैर
गैरो को अपना
बनाया है बहुत 
अब खुद से और खुदा से
रिश्ता निभाने की
आदत है अब।


कांगड़ा हिमाचल प्रदेश (युवा कवि लेखक)
(भाषा अध्यापक) गवर्नमेंट हाई स्कूल,ठाकुरद्वारा।