वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा, हिमवाणी संस्था ग्रामीण महिलाओं के साथ मिलकर बना रही है सुन्दर राखियाँ


उमा ठाकुर, शिमला। सिलाई अध्यापिका ज्ञानी शर्मा ने ग्राम पंचायत कोट शिलारू तहसील ठियोग जिला शिमला की सिलाई अध्यापिकाओं, महिला मंडलों, शिगोटी शिलारू  की ग्रामीण महिलाओं तथा स्वयम् सहायता समूह की सभी  महिलाओं के साथ मिलकर वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देते हुए आकर्षक हैडमेड राखियाँ  बनाने का काम शुरु किया है, जो महिला सशक्तिकरण की मिसाल है।



भाई बहन के स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन 3 अगस्त 2020 को है और कोरोना महामारी के चलते  वोकल फॉर  लोकल यानि स्वदेशी थीम के तहत हिमवाणी संस्था  सिलाई अधयापिका ज्ञानी शर्मा के नेतृत्व मेंं ग्रामीण महिलाओं के साथ मिलकर सुन्दर, स्वदेशी राखियाँ बना रही है, जिसमें मौली, मालाएं धागे, रिबन, रंगबिरंगे मोती स्टोन आदि स्वदेशी चीज़ों का प्रयोग किया गया है और प्रण किया है कि इस बार भाई की कलाई पर मेड इन चाईना नहीं, हैंडमेड स्वदेशी राखि़याँ बहनों द्वारा पहनायी जांएगी। हिमवाणी संस्था लोक संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के साथ साथ  कोविड -19 के वैश्विक संकट के दौर में इस महामारी के प्रति समाज को जागरूक करने का काम भी बखूबी कर रही है। संस्था के संस्थापक व सचिव संजीव कुमार जहां ज़रूरतमंदों की सेवा में जुटे हैं, वहीं संस्था की कोषाध्यक्ष कल्पना गांगटा व सदस्य दीपक शर्मा, उमा ठाकुर, सुनीता ठाकुर, रमेश शर्मा, कुलदीप शर्मा, अनु शर्मा अनुराधा शर्मा आदि अपने-अपने स्तर पर समाजसेवा कर रहे हैं।