वर्दी वालों को संजीबा की नसीहत

संजीबा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।



वर्दी वालो मेरी इतनी सी बात याद रखना
बेगुनाहों पे जो तुमने लाठी जो उठायी
मां-बहनों को गाली जरा भी दी भाई
तो तेरे पाप तेरे बाल-बच्चों को पड़ेगा भोगना
वर्दी मिली है तुझे किसके लिए 
कर क्या रहा है कभी पूछ खुद से
काहू की आह लगे तुझको
ऐसा तू मत करना, मत करना