भरी कलाई, भीगी पलकें

दिलीप भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

कैलाश माइग्रेन के इलाज के लिए जयपुर दुर्लभ जी अस्पताल में भर्ती था। सुबह नर्स इंजेक्शन लगाते समय मरीज को उदास देखकर कारण पूछा। सिस्टर आज रक्षा बंधन है ना। बहन का लिफाफा तो रावतभाटा में घर पर आया होगा, पर आज मेरी कलाई तो सूनी ही रह जाएगी। नर्स बोली - हम इंजेक्शन लगा कर सुई चुभाती हैं तो भी आप मुस्कराकर थैंक यू सिस्टर बोलते हैं। हम सिस्टर्स के होते आपकी कलाई सूनी रहने ही नहीं देंगे। कोई भी सिस्टर आप जैसा भाई पाकर धन्य हो जाएगी।

दिन भर सिस्टर्स आकर कैलाश की कलाई पर राखी सजाती रहीं एवम् अनोखी राखी की याद के लिए सेल्फी भी लेती रहीं। शाम व रात्रि शिफ्ट वाली सिस्टर्स भी आती रहीं। भैया हम चार्ज देते समय यह भी बताती रहीं की दस नंबर वाले मरीज की कलाई भरी रहे। कैलाश की कलाई सिस्टर्स की राखियों से भरी हुई थी एवम् पलकें निस्वार्थ स्नेह भरे प्यार से भीगी हुई थीं।                                

सेवानिवृत्त परमाणु वैज्ञानिक रावतभाटा राजस्थान