एक गीत

आशुतोष, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

ओ  यारा    ओ     यारा

क्यूँ  क्यूँ  क्यूँ  ये  सितम

इतना    तड़पाये       मुझे

हर  घड़ी  ढाये       सितम 

ओ यारा••••••••••••••••

 

देख   के   तेरे    यौवन

जले   मेरा   तन   बदन 

हसरते  हिलोर      मारे   

कब  आये   तुझे   रहम 

कैसे   कहूँ    मैं    तुझसे   

तेरे  बिना  आये  न  चैन 

ओ यारा ------------

 

दूर   न  रह  पायेंगे  हम

एक पल  बिन तेरे सनम

इंतजार      में         तेरी

कैसे    कटे   यह    दिन  

वो  घड़ी   की  आस   में   

पलक   बिछाये   राह  में 

ओ यारा -------------

 

तू      आकर        मिले

एक      जन्नत      मिले 

मैं   बादल   तू     बरखा  

धरती  पर    बरस   पडे    

फिर आये शीतल चाँदनी

तू  लिपटी  रहे बन चकोर

ओ यारा-------------

 

                                पटना बिहार