उत्तराखंड के राष्ट्रीय कोच विरेन्द्र सिंह रावत ने केन्द्रीय खेल मंत्री किरन रीजीजू से की ऑन लाइन वार्तालाप


शि.वा.ब्यूरो, देहरादून। आज 3 मई 2020 को उत्तराखंड के नैशनल कोच और क्लास वन रेफरी, अनगिनत अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और स्टेट अवार्ड से सम्मानित विरेन्द्र  सिंह रावत ने केन्द्रीय स्वतंत्र प्रभार खेल मंत्री किरन रीजीजू से फुटबाल के विकास के विषय मे ऑन लाइन वार्तालाप की, जिसका आयोजन फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा किया गया।
उत्तराखंड के कोच रावत ने केन्द्रीय खेल मंत्री किरन रिजीजू से पूछा कि कोरोंना वाईरस की वजह से भारत की फुटबाल पर कितना असर पड़ेगा और  इस मुसीबत के दौर पर खिलाड़ी को क्या करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो खिलाड़ी खेलता है, तभी उसे पैसे मिलते है। इस वक्त सभी खिलाड़ी बेरोजगार हो गए हैं, उनके लिए भारत सरकार ने क्या पॉलिसी बनाई है।




इसके प्रत्युत्तर में केन्द्रीय खेलमंत्री ने कहा हम खिलाडियों के लिए बेह्तरीन पॉलिसी बना रहे है। उन्होंनेे कहा कि हमे चिंता है खिलाड़ियों की। कोई भी खिलाड़ी बेरोजगार ना रहे और स्टेट और केन्द्र सरकार के सहयोग से हमने स्पोर्ट्स कोटा का प्रपोजल तैयार किया है। इस प्रपोजल पर कोविड-19 के होने के बाद प्रधानमंत्री से वार्ता करके खिलाडियों के भविष्य के लिए उचित कदम उठाये जायेंगे, जिससे कि कोई भी खिलाड़ी बेरोजगार ना हो। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि खिलाडियों को अच्छा खाना मिले, गांव, जिले, राज्य मे खेल प्रतिभा को निखारा जाए। खेल मंत्री ने कहा कि कोरोना वाईरस की वजह से इस वर्ष खेल प्रतियोगिता कम ही हो पाएँगी, लेकिन अगले वर्ष खेल और खिलाड़ियों का विकास होगा। राष्ट्रीय कोच विरेन्द्र सिंह रावत ने बताया कि उम्मीद है कि खेल मंत्री भारत के खेलों का उचित विकास करेंगे।