हैल्थ् टिप्स: बड़ो, बूढ़ो व बच्चों का रखें खास ख्याल

मनोज भाटिया, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में लू के थपेड़ों के बीच आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है और इसकी आंच अन्य राज्य को भी झुलसा रही है। जो मौसम जानकार दो हफ्ते पहले सामान्य से कम तापमान पर हैरान हो रहे थे, अब उनका कहना है कि अगले कुछ दिन तक मौसम की गर्मी खतरनाक स्तर तक झुलसाती रहेगी। मौसम विभाग की ओर से भी यह चेतावनी जारी की गई है कि पश्चिमी विक्षोभ के चलते दिल्ली में तेज गर्म हवाएं चल सकती हैं।

जाहिर है मौसम में इस तेज बदलाव ने आम लोगों का जीना मुहाल कर दिया है और वे झुलसने पर मजबूर हैं। हालांकि सामान्य तौर पर इस दौरान मौसम में इतनी ही गर्मी रहती है, लेकिन इस साल मामला थोड़ा अलग इसलिए है, क्योंकि तापमान में अचानक ही तेजी से बढ़ोतरी हुई। यों कोरोना संक्रमण से बचाव की वजह से की गई पूर्णबंदी के चलते आमतौर पर लोग घरों में ही बंद हैं, इसलिए लू का सीधा सामना करने से वे बचे हुए हैं, लेकिन तापमान जब असामान्य रूप से बढ़ जाता है, तब घरों के भीतर भी इसकी आंच सताती है। शरीर में पानी की कमी से लेकर स्वास्थ्य संबंधी दूसरी दिक्कतें पैदा होने की आशंका बढ़ जाती है, इसलिए घरों के भीतर भी बचाव के पूरे इंतजाम पर ध्यान की जरूरत है। ज्यादातर लोग आमतौर पर अपने स्तर पर गर्मी से बचने की कोशिश करते हैं, लेकिन बचाव के उपायों और जरूरत पड़ने पर स्वास्थ्य सुविधाओं के इस्तेमाल को लेकर सरकारों को संचार के विभिन्न माध्यमों के सहारे जागरूकता अभियान भी चलाना चाहिए। कोरोना के कहर की वजह से पहले ही लोग परेशाहाल हैं, ऐसे में गर्मी की मार ने उनकी जीवन-स्थितियों को और मुश्किल में ही डाला है।

 

वरिष्ठ पत्रकार खतौली, (मुजफ्फरनगर) उत्तर प्रदेश