आमजन भी अपनी जिम्मेदारी समझे

डॉ शम्भू पंवार, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

 

 वैश्विक महामारी कोरोना से देश जूझ रहा है। 3 मई को लॉक डॉउन का द्वितीय चरण पूरा होने वाला है। देश की जनता आह पोह की स्थिति में है, कयास लगाए जा रहे है कि 3 मई को लॉक डॉउन हटाया जाएगा या आगे बढ़ाया जाएगा, लेकिन देश मे संक्रमितों की बढ़ती संख्या को  मध्य नजर रखते हुए लॉक डॉउन आगे बढ़ाया जाना संभव है। संक्रमित लोगो का आंकड़ा 30000 को पार कर आगे बढ़ रहा है, तो मरने वालों की संख्या एक हजार को पार कर रही है। ऐसे विकट हालात में लोक डॉउन खत्म करने की संभावना नही के बराबर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यो के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की और उसके आधार पर राज्य अपने अपने क्षेत्र में जॉन वाइज संक्रमितों की संख्या में इजाफा नही होने पर कुछ राहत दे सकते है।

     ऐसे हालात में देश की जनता का दायित्व भी बनता है कि वे कोरोना संक्रमण की गम्भीरता  को समझे। आम जनता को अपनी जिम्मेदारी को समझना होगा। यदि अभी भी आमजन इस खतरे की गंभीरता को नहीं समझते हैं तो हालात और भी भयावह हो सकते हैं। आमजन इस संकट के कठिन दौर मे अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझ रहा है, केवल सरकार पर ही निर्भर रहना न्यायोचित नहीं है। महामारी या प्राकृतिक आपदा के हालात में सरकार भी आमजन के सहयोग के बिना कुछ नही कर पायेगी। लॉक डाउन के दौरान सरकार द्वारा दिए जा रहे निर्देशो का भी हम पूर्णतया पालन नहीं कर रहे हैं, लोग बिना वजह से बाहर घूम रहे हैं, पुलिस ने देश में ऐसे लाखों लाखों वाहन जप्त किये है और ऐसे लोगों को समझा कर अपने जीवन अब अपने और परिवार के जीवन की सुरक्षा के लिए नसीहत दे रही है। समझ नहीं आता है आम नागरिक अपने व अपने परिवार की सुरक्षा के प्रति गंभीर क्यों नहीं है? जान है तो जहान है। हम सुरक्षित रहेंगे तभी हम कुछ कर सकेंगे। आमजन को पहले अपने व अपनो के जीवन को सुरक्षित करे, इसके लिए एक अच्छे देशवासी होने के  दायित्व को भलीभांति पहचाने ओर उनको निभाये।     

     आज पूरा विश्व कोरोना की त्रासदी से त्रस्त है। विश्व की महान शक्तियों में गिने जाने वाले अमेरिका के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। यद्यपि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समय रहते सूझ-बूझ और प्रभावी ढंग से सही समय पर सुरक्षा के कदम उठाए जाने के फलस्वरूप आज भारत अन्य देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है। यदि PM मोदी ने सही समय पर कदम नही उठाये होते तो देश के हालात भी अमेरिका से कम नही होते। प्रधानमंत्री मोदी ने अवाम के नाम अपने संदेश में बार-बार जनता से अपील कर रहे हैं कि कोरोना जैसी महामारी की गम्भीरता को समझे और समझे घर में रहे बिना वजह बाहर नहीं जाएं। इसका सही उपचार यही है कि कोरोना संक्रमण की चैन को तोड़े। कोरोना वायरस की संक्रमण की चैन को तोड़ना एक सही उपाय है। इसके लिए सोशल डिस्टेंस को अपनाए एवं घर में परिवार के साथ समय बिताये। आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले तो मास्क लगाकर जाए, घर में आने पर हाथों को अच्छे से 20 सेकंड तक साफ करें फिर कपड़े बदल करके ही परिवार के अन्य सदस्यों के पास जाएं। जितना हम सुरक्षात्मक उपाय  करेंगे इतना ही हम अपने जीवन को व अपने परिवार वालों के जीवन को सुरक्षित कर पाएंगे।

कोरोना योद्धाओं का सम्मान करें

 इस महामारी के कठिन दौर में आम जनता का दायित्व है कि डॉक्टर, नर्सिंग कर्मचारी, पुलिस विभाग, स्वच्छताकर्मी,  मीडियाकर्मी इन कोरोना कर्मवीर योद्धा अपने जीवन की परवाह किए बिना दिन-रात त्याग और समपर्ण की भावना से जुटे हुए है। कई चिकित्सको,पुलिस अधिकारी,कर्मचारियों को कोरोना के कॉल का ग्राश भी बना लिया, इसलिए आमजन का भी दायित्व बनता है कि वह ऐसे कर्मवीर योद्धाओं का सम्मान करें उनका हौसला बढ़ाये, ताकि ये योद्धा इस विकट हालात में देश की जनता को सुरक्षित करने में कोरोना से महबूती से जंग लड़ सके। 

पुलिस की छवि में निखार

देश मे लॉक डॉउन के दौरान देश मे पुलिस ने अपनी जो छवि प्रदर्शित की वो अनुकर्णीय है। पूरे देश की पुलिस ने इन विकट हालातो में जिस समर्पण और संयम से कार्य कर रही है, उससे पुलिस की छवि में निखार आया है। आमजन में पुलिस के प्रति मान सम्मान बढ़ा है।

आरोग्य एप्प को डॉउन लोड करें

  प्रधानमंत्री मोदी ने आमजन की सुरक्षा के लिए आरोग्य एप्प को डॉउन लोड करने का आह्वान किया। कि आमजन इस एप्प से आप अपने को कोरोना से बचाव कर सकते है तथा अपनो को जानकारी दे। वास्तव में यह आरोग्य एप्प आमजन के लिए सहायक सिद्ध हो रहा है।

 

ब्यूरो चीफ, ट्रू मीडिया, दिल्ली, चिड़ावा