जिलाधिकारी ने कम्युनिटी किचन, उचित दर की दुकान व गौशाला, कांजी हाउस व गेहूं क्रय केन्द्रों का किया औचक निरीक्षण


शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने आज गेहूं खरीद क्रय केन्द्र सिखेड़ा व जानसठ का औचक निरीक्षण कर गेहंू खरीद के लिए की कई व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने इस दौरान मौजूद केन्द्र प्रभारियों को निर्देश दिए कि शासन की मंशानुरूप गेहूं क्रय केन्द्रों पर किसानों हेतु समस्त आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। उन्होने जानसठ क्रय केन्द्र पर गेहूं की बोरियों को गोदाम में रखे जाने के निर्देश डिप्टी आरएमओं को दिये। जिलाधिकारी ने केन्द्र प्रभारियों को निर्देश दिए कि न्यूनतम समर्थन मूल्य 1925 रूपये प्रति कुंतल पर गेहूं की खरीद की जाये। प्रत्येक केन्द्र पर किसानों के बैठने के स्थान, पीने के पानी, बोर्ड आदि का प्रमुखता से ख्याल रखा जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि शासन की मंशानुरूप किसानों की हरसंभव मदद की जाए। सभी केन्द्रों पर आवंटित लक्ष्य की प्रतिपूर्ति होनी चाहिए, जिससे कि जनपद में गेहूं खरीद के लक्ष्य को पूर्ण किया जा सके। सभी केन्द्र समय से खोले जाए। डीएम ने इस दौरान केन्द्रों पर बोरा, तौल मशीन ,छन्ना, पेयजल आदि विभिन्न व्यवस्थाओं की केंद्र प्रभारियों से जानकारी की। जिलाधिकारी ने शहर में जिला सहकारी बैंक लि0 द्वारा संचालित मोबाइल एटीएम मशीन का भी निरीक्षण किया।  



जिलाधिकारी ने ग्राम सिखेड़ा पहुंचकर राशन वितरण की दुकान का औचक निरीक्षण किया। उन्होने कोटेदार को निर्देश दिये कि सोशल डिस्टैसिंग का पालन कराकर राशन वितरण किया जाये। उन्होने कहा कि सभी पात्रांे को निर्धारित मानक के अनुसार राशन वितरण किया जाये। उन्होने निर्देश दिये कि राशन वितरण में किसी भी प्रकार की कोई शिकायत नही आनी चाहिए। शिकायत आने पर तत्काल कडी कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी ने जानसठ क्षेत्र में ग्राम बेहड़ा अस्सा में स्थापित कम्युनिटी किचन का भी निरीक्षण किया।



जिलाधिकारी ने आज नगर पंचायत जानसठ, गौशाला/गौ आश्रय स्थल व कांजी हाउस जानसठ का भी निरीक्षण किया। उनहोने निर्देश दिये कि गौवंश के लिए चारे, भूसे, पानी आदि की उचित व्यवस्था की जाये। उन्होने कहा कि अभी से भूसे आदि की व्यवस्था कर ली जाये। उन्होने कहा कि अभी भूसा स्टोर करने में दिक्क्त नही होगी क्योंकि गेंहू कटाई का कार्य चल रहा है।  इस अवसर पर सभी सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।